, ,

The Top 10 NEET and JEE Coaching Institutes in Sikar

जब भी आप और हम JEE या NEET की कोचिंग लेने की बात करते हैं तो सबसे पहला नाम कोटा शहर का ही आता है। वैसे हम बात करें तो JEE और NEET की कोचिंग देने के एक नहीं बल्कि हजारों इंस्टीट्यूट देश के कोने कोने में खुल चुके हैं फिर चाहे वह मेट्रो सिटी हो या छोटे शहर। इन सभी में मायने यह रखता है कि कौन से शहर में बेस्ट कोचिंग दी जा रही है। अब कोटा के टक्कर का जो शहर है उसमें सीकर का नाम सबसे पहले लिया जाता है। सीकर शहर में खुले सैकड़ों JEE और NEET के इंस्टीट्यूट (Coaching Institute In Sikar) और वहां के स्टूडेंट्स की परफॉरमेंस के कारण ही यह देश का फेमस कोचिंग शहर बन चुका है।

अब बात सीकर शहर में JEE और NEET की कोचिंग लेने की हो रही है तो जरुर ही आपको सीकर के टॉप लेवल के कोचिंग इंस्टीट्यूटस के नाम भी जानने (Sikar Coaching Center List) होंगे। वैसे तो सीकर शहर में JEE और NEET की कोचिंग देने के सैकड़ों इंस्टीट्यूट हैं लेकिन उसमें नंबर एक पर कौन है, टॉप 5 में कौन से इंस्टीट्यूट आते हैं और टॉप 10 में कौन कौन से इंस्टीट्यूट आते (Top Coaching Institute in Sikar for IIT) हैं, यह एक बड़ा सवाल है। इसी के साथ ही सीकर में JEE की बेस्ट कोचिंग कौन सा इंस्टीट्यूट दे रहा है तो NEET के बेस्ट इंस्टीट्यूट कौन कौन से हैं, यह जानना भी आपके लिए जरुरी हो जाता है।

Coaching Institutes in Sikar

ऐसे में आज हम आपके साथ सीकर के कोचिंग इंस्टीट्यूटस की लिस्ट ही शेयर करने वाले हैं। आज के इस आर्टिकल को पढ़कर आपको यह बात पता चलेगी कि अगर आपको सीकर शहर में JEE और NEET की कोचिंग लेने के लिए जाना है तो उसके लिए बेस्ट इंस्टीट्यूट कौन सा रहेगा। आइये जाने सीकर के कोचिंग इंस्टीट्यूटस के बारे में।

सीकर के कोचिंग इंस्टीट्यूट

क्या आप जानते हैं कि आखिरकार क्यों सीकर JEE और NEET की कोचिंग देने के मामले में देश की टॉप मोस्ट सिटी बन चुकी है!! तो इसका सीधा सा जवाब है सीकर शहर में खुले सैकड़ों JEE और NEET के कोचिंग इंस्टीट्यूट (Coaching Institute In Sikar) और वहां से लगातार JEE और NEET के एग्जाम में सेलेक्ट होते स्टूडेंट्स। अब कोई भी शहर यूँ ही टॉप पर नहीं आ जाता है और उसके पीछे बहुत मेहनत लगती है।

वैसे तो सैकड़ों तरह के इंस्टीट्यूट बड़े बड़े शहरों या जिन्हें हम मेट्रो सिटी के नाम से जानते हैं, वहां भी खुले हुए हैं, जैसे कि दिल्ली, मुंबई, जयपुर, चेन्नई इत्यादि लेकिन इन सभी में सीकर ही टॉप पर क्यों है और क्यों उसने कोटा को भी कड़ी टक्कर दी हुई है जिसे कोचिंग हब के नाम से जाना जाता है। तो इसके लिए हम सीकर के बेस्ट कोचिंग इंस्टीट्यूटस (Best Coaching Institute in Sikar for NEET) को ही श्रेय दे सकते हैं और वो भी टॉप लेवल के इंस्टीट्यूटस।

सीकर के टॉप 10 कोचिंग इंस्टीट्यूट ऐसे इंस्टीट्यूट हैं जिन्होंने पूरे सीकर शहर की ही किस्मत बदल कर रख दी है। यही कारण है कि पूरे देशभर से बच्चे अब कोटा की बजाये सीकर शहर में भी आ रहे हैं और आज के समय में लाखों बच्चे सीकर के इन कोचिंग इंस्टीट्यूट में पढ़ रहे हैं। तो आइये जाने सीकर के यह टॉप 10 कोचिंग इंस्टीट्यूट (Sikar Coaching Center List) कौन कौन से हैं।

सीकर के टॉप 10 कोचिंग इंस्टीट्यूट

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया कि सिर्फ JEE और NEET के इंस्टीट्यूट खोलने से ही कुछ नहीं होता है बल्कि उन कोचिंग इंस्टीट्यूट को बेहतर से बेस्ट बनाने में पूरा जोर लग जाता है। इसके लिए उन्हें ना सिर्फ बेस्ट फैकल्टी हायर करनी होती है बल्कि स्टूडेंट्स को वर्ल्ड क्लास फैसिलिटी भी देनी होती है।

तो जब हमने सीकर शहर के सभी तरह के कोचिंग इंस्टीट्यूट (Coaching Institute In Sikar) के बारे में छानबीन की और वहां पढ़ रहे स्टूडेंट्स और उनके पेरेंट्स से बात की तो कुछ इंस्टीट्यूट इसमें ओरों से बहुत बेहतर लगे। इसी के साथ ही हमने JEE और NEET के एग्जाम में इन इंस्टीट्यूट से हर वर्ष सेलेक्ट हो रहे बच्चों के आंकड़े भी देखे। इसी के आधार पर ही हमने आपके लिए रैंक 1 से रैंक 10 वाले सीकर के कोचिंग इंस्टीट्यूट की एक लिस्ट तैयार की है, जो कि इस प्रकार है:

  • मैट्रिक्स JEE अकैडमी (Matrix IIT Sikar)
  • एलन सीकर (Allen Sikar)
  • गुरुकृपा सीकर या Gurukripa Career Institute (GCI)
  • कौटिल्य आईआईटी अकैडमी (Kautilya IIT Academy)
  • पीसीपी सीकर या Prince Career Pioneer
  • सीएलसी या Career Line Coaching
  • अन अकैडमी सेंटर सीकर (Unacademy Centre)
  • आकाश इंस्टीट्यूट (Aakash Institute)
  • मैक अकैडमी (Mach Academy)
  • आयाम अकैडमी (Aayaam Academy)

ऊपर बताये गए सभी इंस्टीट्यूट सीकर के टॉप कोचिंग इंस्टीट्यूट (Coaching Institute In Sikar) के नाम से जाने जाते हैं। इसमें से मैट्रिक्स अकैडमी का नाम सबसे ज्यादा फेमस है क्योंकि वहां लगातार कई वर्षों से JEE का रिजल्ट टॉप लेवल का रहा है। वहीं NEET की कोचिंग वहां पिछले एक वर्ष से ही शुरू हुई है और इसके पहले ही बैच ने टॉप लेवल का रिजल्ट दिया है।

दूसरे नंबर के कोचिंग सेंटर एलन इंस्टीट्यूट का नाम तो आप सभी ने ही सुन रखा होगा। तो जिस एलन का नाम आपने सुन रखा है वह दरअसल कोटा वाली ब्रांच है लेकिन अपनी बढ़ती ब्रांड वैल्यू के कारण एलन ने देश के कई शहरों में अपनी ब्रांच खोल ली है जिसमें से सीकर भी एक है। इसी कारण एलन सीकर का नाम सीकर शहर में दूसरे नंबर पर आता है।

अब इसमें से कोई इंस्टीट्यूट JEE की तैयारी करवाने के लिए फेमस है तो कोई NEET की कोचिंग देने के लिए। ऐसे में आपके लिए यह जानना भी बहुत जरुरी हो जाता है कि इन सभी में से JEE और NEET की कोचिंग देने के लिए अलग से कौन कौन से कोचिंग इंस्टीट्यूट पूरे सीकर शहर में फेमस है। तो आइये उसका भी पता लगा लेते हैं।

सीकर के टॉप 5 JEE कोचिंग इंस्टीट्यूट

अभी तक आपने सीकर के टॉप कोचिंग इंस्टीट्यूट की ओवरऑल लिस्ट जान ली है लेकिन जब हम JEE की बेस्ट कोचिंग देने की बात करते हैं तो इसमें कुछ इंस्टीट्यूट दूसरे से ऊपर आ जाते हैं तो कुछ नीचे चले जाते हैं। ऐसे में आइये जाने सीकर के टॉप JEE कोचिंग इंस्टीट्यूट (Top Coaching Institute in Sikar for IIT) कौन कौन से हैं।

  • मैट्रिक्स JEE अकैडमी (Matrix IIT Sikar)

मैट्रिक्स अकैडमी का नाम इस लिस्ट में टॉप पर है। वह इसलिए क्योंकि पिछले कई सालों से मैट्रिक्स अकैडमी के स्टूडेंट्स का JEE के एग्जाम में रिजल्ट शानदार रहा है जो पूरे सीकर शहर में ही टॉप लेवल का है। हाल ही में आये JEE 2023 के रिजल्ट में मैट्रिक्स के मयंक सोनी ने पूरे सीकर शहर में टॉप किया है जिनकी OBC कैटेगरी में आल इंडिया रैंकिंग 2 है तो वहीं सभी वर्गों में 26 है। इतना ही नहीं, सीकर के टॉप 5 स्टूडेंट्स में से 4 स्टूडेंट तो अकेले मैट्रिक्स अकैडमी से ही है।

  • एलन सीकर (Allen Sikar)

सीकर में JEE की कोचिंग देने में एलन इंस्टिट्यूट का नाम दूसरी पोजीशन पर आता है। वहां पढ़ रहे हर स्टूडेंट्स को वर्ल्ड क्लास फैसिलिटी तो दी जाती है लेकिन मैट्रिक्स की तुलना में वह इसलिए नीचे आ जाता है क्योंकि मैट्रिक्स की फैकल्टी पूरे सीकर शहर में टॉप क्लास की फैकल्टी मानी जाती है। यही कारण है कि मैट्रिक्स अकैडमी का रिजल्ट भी टॉप लेवल का है। वही एलन की टॉप क्लास की फैकल्टी को कोटा वाली ब्रांच में शिफ्ट कर दिया जाता है।

  • कौटिल्य आईआईटी अकैडमी (Kautilya IIT Academy)

अब इसी कैटेगरी में कौटिल्य अकैडमी की पोजीशन तीसरे नंबर की है जो सीकर शहर में JEE की कोचिंग देने में बेस्ट कोचिंग इंस्टीट्यूट बना हुआ है। कौटिल्य में सिर्फ JEE की ही कोचिंग दी जाती है और इसी कारण इसका पूरा नाम भी कौटिल्य IIT अकैडमी ही रखा गया है। यहाँ पर नीट की कोचिंग नहीं देने के कारण भी यह ओवरआल की लिस्ट में बाकि से पिछड़ जाता है। हालाँकि JEE की तैयारी यहाँ बहुत अच्छे से करवायी जाती है।

  • पीसीपी सीकर या Prince Career Pioneer

पीसीपी को हम प्रिंस अकैडमी या प्रिंस करियर अकैडमी के नाम से भी जानते हैं जो सीकर के टॉप 5 JEE कोचिंग इंस्टीट्यूट में से चौथी पोजीशन पर आती है। इसकी ख़ास बात यह है कि मैट्रिक्स अकैडमी की तरह ही यह सीकर शहर में स्कूल से लेकर JEE और NEET दोनों की कोचिंग देती है। शुरुआत में तो इसनें टॉप 3 अकैडमी को सीधी टक्कर दी थी लेकिन धीरे धीरे यह खिसक कर चौथे पायदान पर आ गयी। इसका कारण प्रिंस में सभी तरह की फैसिलिटी का नहीं होना है और टॉप क्लास की फैकल्टी का दूसरे टॉप इंस्टिट्यूट में शिफ्ट हो जाना है।

  • सीएलसी या Career Line Coaching

अब इसी कैटेगरी में करियर लाइन कोचिंग की पोजीशन आखिरी अर्थात पांचवें नंबर की है। कभी यह प्रिंस को पछाड़ कर चौथी पोजीशन पर भी आ जाता है तो कभी फिर से पांचवें पर आ जाता है। यहाँ भी JEE की बहुत अच्छे से तैयारी करवायी जाती है लेकिन मैट्रिक्स और एलन की तुलना में यहाँ बच्चों के लिए प्रॉपर डाउट सेंटर नहीं बनाये गए हैं। इस कारण स्टूडेंट्स के मन में जो डाउट होते हैं, वे सही टाइम पर सोल्व ही नहीं हो पाते हैं।

इस तरह से यह 5 इंस्टिट्यूट ऐसे हैं जिन्हें पूरे सीकर शहर में JEE IIT की बेस्ट कोचिंग देने वाले इंस्टिट्यूट (Top Coaching Institute in Sikar for IIT) में से एक गिना जाता है। वैसे तो सीकर में और भी दर्जनों इंस्टिट्यूट है जो JEE की बेस्ट कोचिंग देने का दावा करते हैं लेकिन हमने खुद वहां जाकर और वहां के स्टूडेंट्स और उनके पेरेंट्स से पूछकर आपके सामने यह लिस्ट रखी है।

सीकर के टॉप 5 NEET कोचिंग इंस्टीट्यूट

अब जब आपने सीकर के बेस्ट JEE कोचिंग इंस्टीट्यूट के बारे में जान ही लिया है तो जरुर ही आपको सीकर के टॉप NEET कोचिंग इंस्टीट्यूट (Best Coaching Institute in Sikar for NEET) के बारे में भी जानना होगा। तो जैसा कि हमने आपको ऊपर ही बताया कि जब हम JEE और NEET की कोचिंग के लिए टॉप 5 कोचिंग इंस्टीट्यूट की लिस्ट अलग अलग देखेंगे तो इसमें कुछ इंस्टीट्यूट ऊपर नीचे हो जाते हैं तो वहीं कुछ इंस्टीट्यूट नए आ जाते हैं तो वहीं कुछ का नाम कट भी सकता है। ऐसे में सीकर के टॉप NEET कोचिंग इंस्टीट्यूट के नाम हैं:

  • मैट्रिक्स नीट डिवीज़न (Matrix NEET Division)

मैट्रिक्स अकैडमी का नाम सीकर के कोचिंग इंस्टीट्यूट में सबसे पहले इसलिए आता है क्योंकि यहाँ ना सिर्फ JEE की बेस्ट कोचिंग दी जा रही है बल्कि NEET की भी बेस्ट कोचिंग देने का रिकॉर्ड इसी के नाम पर दर्ज हो चुका है। वह इसलिए क्योंकि मैट्रिक्स अकैडमी ने साल 2022 से ही NEET की कोचिंग देनी शुरू की है।

जहाँ अमूमन पहली बार में किसी इंस्टीट्यूट के यहाँ से 20 से 30 बच्चे ही NEET का टफ एग्जाम क्लियर कर पाते हैं तो वहीं मैट्रिक्स नीट डिवीजन के 200 से भी अधिक बच्चों ने इसे क्लियर कर अपना परचम लहराया है। यही कारण है कि मैट्रिक्स अकैडमी को ही सीकर का बेस्ट NEET कोचिंग इंस्टीट्यूट (Best Coaching Institute in Sikar for NEET) कहा जा सकता है।

  • गुरुकृपा सीकर या Gurukripa Career Institute (GCI)

अब आप सोच रहे होंगे कि पहले की तरह ही एलन सीकर का नाम सीकर में टॉप 5 NEET कोचिंग इंस्टीट्यूट की लिस्ट में दूसरी पोजीशन पर आएगा लेकिन ऐसा नहीं है। इसमें सीकर का गुरुकृपा इंस्टीट्यूट बाजी मार जाता है और एलन को पछाड़ कर सीकर का नंबर 2 NEET कोचिंग इंस्टीट्यूट बन जाता है। वह इसलिए क्योंकि गुरुकृपा कोचिंग सेंटर ने अपने यहाँ NEET की कोचिंग देने के लिए बहुत ही एक्सपीरियंसड फैकल्टी को हायर किया हैं ताकि उनके यहाँ से ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट्स का सिलेक्शन NEET एग्जाम में हो सके।

  • एलन सीकर (Allen Sikar)

सीकर के टॉप NEET कोचिंग इंस्टीट्यूट की लिस्ट में एलन इंस्टीट्यूट का नाम तीसरे नंबर पर आता है। जब तक मैट्रिक्स ने अपनी NEET की ब्रांच शुरू नहीं की थी तब तक गुरुकृपा पहले और एलन तीसरे स्थान पर हुआ करते थे लेकिन साल 2022 के बाद से गुरुकृपा दूसरे स्थान पर आ गया है तो वही एलन तीसरे पर खिसक गया है। हालाँकि एलन सीकर में इन दोनों कोचिंग इंस्टीट्यूट के अलावा अन्य किसी भी कोचिंग इंस्टीट्यूट की तुलना में बहुत अच्छी NEET की तैयारी करवायी जाती है।

  • पीसीपी सीकर या Prince Career Pioneer

सीकर में नीट की बेस्ट कोचिंग देने के मामले में प्रिंस करियर लाइन कोचिंग इंस्टीट्यूट का नाम JEE के टॉप कोचिंग इंस्टीट्यूट के जैसा ही है। उसमें भी प्रिंस का स्थान चौथे नंबर पर था और NEET की कोचिंग देने में भी इसका स्थान चौथे नंबर का ही है। ऐसे में अगर आपको सीकर शहर में नीट की कोचिंग लेनी है तो उसके लिए आप पीसीपी सीकर का चुनाव भी कर सकते हैं।

  • सीएलसी या Career Line Coaching

अब इस लिस्ट में सीएलसी का नंबर आखिरी और टॉप 5 में बना हुआ है। करियर लाइन कोचिंग ने पिछले कुछ सालों में अपनी कोचिंग को बेहतर बनाने में बहुत मेहनत की है और उसी का रिजल्ट है कि आज के समय में यह सीकर के टॉप 5 NEET कोचिंग इंस्टीट्यूट में बना हुआ है। इसलिए अगर आपको सीकर में NEET की कोचिंग लेनी है तो आप सीएलसी का भी चुनाव कर सकते हैं।

तो यह थी सीकर के टॉप 5 नीट कोचिंग सेंटर की लिस्ट (Best Coaching Institute in Sikar for NEET) और उनके बारे में हमारा आंकलन। आप यह जरुर याद रखे कि जब JEE की बात हो रही है तो उसके लिए इंस्टिट्यूट को अलग तरीके से परखे और नीट की बात हो रही है तो अलग। कई बार यह देखने में आता है कि  Overall में कुछ इंस्टिट्यूट ऊपर आ जाते हैं तो कुछ नीचे लेकिन जब इन दोनों एग्जाम के लिए अलग अलग बात हो तो हमें सही तरह से पता चलता है कि कौन किस से बेहतर है।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल को पढ़कर आपने सीकर के कोचिंग इंस्टीट्यूट के बारे में पूरी जानकारी ले ली है। इसी के साथ ही हमने आपको सीकर के टॉप 10 कोचिंग इंस्टीट्यूट की लिस्ट (Coaching Institute In Sikar) भी दी है तो वहीं JEE और NEET के लिए अलग अलग से टॉप 5 कोचिंग इंस्टीट्यूट की एक लिस्ट भी दी है। ऐसे में अगर आपको सीकर में JEE की कोचिंग लेनी है तो आप मैट्रिक्स या एलन में से किसी एक का चुनाव कर सकते हैं और वहीं अगर NEET की कोचिंग लेनी है तो उसके लिए मैट्रिक्स या गुरुकृपा में से किसी एक को चुना जा सकता है।

वहीं अगर आप JEE और NEET दोनों के लिए ही टॉप लेवल का कोचिंग इंस्टीट्यूट देख रहे हैं तो उसमें सीकर के मैट्रिक्स इंस्टीट्यूट का नाम सबसे पहले लिया जाता है। ऐसे में आपको ही यह फैसला करना है कि आप किस इंस्टीट्यूट को JEE और NEET की तैयारी करने के लिए चुनते हैं। आप अगर आज सही फैसला लेंगे तो JEE और NEET के एग्जाम को जल्दी और अच्छे नंबरों से पास करने की पोसिबिलिटी उतनी ही बढ़ जाएगी।

सीकर के कोचिंग इंस्टीट्यूट – Related FAQs

प्रश्न: क्या सीकर नीट कोचिंग के लिए अच्छा है?

उत्तर: सीकर नीट की कोचिंग में कोटा को कड़ी टक्कर दे रहा है जहां से हर साल काफी बच्चे नीट को क्लियर कर पाते हैं।

प्रश्न: सीकर में नीट के लिए कौन सी कोचिंग रैंक 1 है?

उत्तर: सीकर में नीट की कोचिंग के लिए मैट्रिक्स नीट डिवीजन को रैंक 1 हासिल है।

प्रश्न: आईआईटी जेईई के लिए सीकर में कौन सी कोचिंग रैंक 1 है?

उत्तर: आईआईटी जेईई के लिए सीकर में मैट्रिक्स जेईई अकैडमी को प्रथम स्थान हासिल है।

प्रश्न: क्या सीकर आईआईटी जेईई के लिए अच्छा है?

उत्तर: सीकर में आईआईटी जेईई के लिए कुछ कोचिंग इंस्टीट्यूट काफी अच्छे हैं जैसे कि मैट्रिक्स जेईई अकैडमी, एलन सीकर, कौटिल्य आईआईटी अकैडमी, पीसीपी सीकर और सीएलसी इत्यादि।

प्रश्न: एलन सीकर या मैट्रिक्स सीकर में से कौन सा बेहतर है?

उत्तर: एलन सीकर या मैट्रिक्स सीकर में से मैट्रिक्स ज्यादा अच्छा है क्योंकि एलन का ध्यान कोटा वाली ब्रांच पर रहता है।

Read Related Articles

ALLEN Career Institute Sikar Reviews
Gurukripa vs Matrix

NEET Coaching In Sikar | SCAS

सीकर शहर राजस्थान ही नहीं बल्कि पूरे देश में नीट की कोचिंग देने का हब बनता जा रहा है। यह हम नहीं कह रहे हैं बल्कि सीकर शहर में खुले नीट के सैकड़ों इंस्टिट्यूट और वहां पढ़ रहे हजारों लाखों छात्रों का आंकड़ा कह रहा है। हर बढ़ते साल के साथ नीट एग्जाम में सेलेक्ट होने वाले छात्रों का आंकड़ा सीकर शहर में बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में आज के इस आर्टिकल में हम सीकर में नीट कोचिंग (NEET Coaching In Sikar) के बारे में ही बात करेंगे।

अब वैसे तो सीकर में सैकड़ों इंस्टिट्यूट है लेकिन हर इंस्टिट्यूट तो अच्छा नहीं होता है। उनमें से कुछ अच्छे होते हैं तो कुछ सही सही जबकि उन अच्छों में से कुछ बेस्ट भी होते हैं जिनका पूरे सीकर शहर में ही डंका बजता है। ऐसे में हम आपको सीकर के चुनिंदा बेस्ट इंस्टिट्यूट (Sikar NEET Coaching Institute) के नाम तो बतायेंगे ही, साथ ही यह भी बताएँगे कि आखिरकार क्यों उन इंस्टिट्यूट को ही सीकर के बेस्ट नीट इंस्टिट्यूट में से एक गिना जाता है।

यहाँ आपको सीकर के टॉप 10 नीट कोचिंग सेंटर (Top 10 NEET Coaching in Sikar) के नाम जानने को मिलेंगे और उनमें भी टॉप 5 इंस्टिट्यूट के बारे में विस्तार से जानने को मिलेगा। चलिए बात करते हैं सीकर में नीट कोचिंग (NEET Coaching In Sikar) के बारे में।

सीकर में नीट कोचिंग

सीकर शहर में नीट की कोचिंग लेने आने वाले स्टूडेंट्स की संख्या हर साल बढ़ती ही जा रही है। जो शहर पहले सिर्फ JEE IIT की कोचिंग देने के लिए ही लोगों के बीच फेमस था, उसने आज नीट की कोचिंग (NEET Coaching In Sikar) देने में भी बहुत शानदार काम किया है। अगर हम आज की बात करें तो सीकर शहर से भी लगभग उतने ही स्टूडेंट्स का नीट के एग्जाम में सिलेक्शन हो रहा है, जितने स्टूडेंट्स का कोटा शहर से होता है।

Neet coaching in Sikar

तो सीकर शहर को नीट कोचिंग देने में इतना ऊपर पहुंचाने का जिसनें काम किया है वह है सीकर में खुले सैकड़ों नीट कोचिंग सेंटर्स। अब सिर्फ कोचिंग सेंटर्स खोलने से ही कुछ नहीं हो जाता क्योंकि नीट के कोचिंग सेंटर तो देश के हर शहर और गाँव में हैं। बात तब बनती है जब उन कोचिंग सेंटर्स में स्टूडेंट्स को टॉप लेवल की नीट कोचिंग दी जा रही हो और उसके लिए टॉप लेवल की फैकल्टी भी हायर की गयी हो।

इसी के साथ ही उन नीट कोचिंग सेंटर्स में स्टूडेंट्स को किस किस तरह की फैसिलिटीस और स्टडी करिकुलम दिया जाता है, यह भी बहुत मायने रखता है। इसके अलावा उन कोचिंग सेंटर्स से कितने स्टूडेंट्स का नीट में सिलेक्शन हुआ है और कितने स्टूडेंट्स ने टॉप किया है, यह भी बहुत मायने रखता है। तो ऐसे में सीकर के कुछ चुनिंदा नीट कोचिंग सेंटर (Sikar NEET Coaching Institute) हैं जिन्होंने इनमें से हर फील्ड में टॉप लेवल का काम किया है।

आज हम आपको उन टॉप 10 नीट कोचिंग सेंटर की लिस्ट (Top NEET Coaching in Sikar) बतायेंगे जिन्होंने पूरे सीकर शहर में ही धमाल मचाया हुआ है। ताकि जब आप सीकर में नीट की कोचिंग लेने पहुंचे तो आपको अपना कोचिंग सेंटर चुनने में किसी तरह की परेशानी ना हो।

सीकर के टॉप 10 नीट कोचिंग सेंटर

अब यह तो हमने आपको ऊपर ही बता दिया कि सीकर एक ऐसा शहर है जहाँ नीट के एक या दो नहीं बल्कि सैकड़ों कोचिंग सेंटर खुले हुए हैं और यह कोई बड़ी बात नहीं है। एक सामान्य से शहर में भी नीट के 10 से 15 कोचिंग सेंटर खुल जाते हैं लेकिन आपको भी पता होगा कि उनमें से कुछ एक को छोड़कर बाकि कोचिंग सेंटर ज्यादा काम के नहीं होते हैं। ऐसे में सीकर शहर नीट की कोचिंग (NEET Coaching In Sikar) देने के लिए फेमस इसलिए ही है क्योंकि यहाँ पर सैकड़ों नीट कोचिंग सेंटर में से कम से कम 10 कोचिंग सेंटर ऐसे हैं जो पूरे शहर तो क्या देशभर में प्रसिद्ध है।

सीकर के इन टॉप 10 नीट कोचिंग सेंटर (Top 10 NEET Coaching in Sikar) में से पहले के 5 कोचिंग सेंटर्स का नाम तो राजस्थान सहित पूरे देश में चलता है। ऐसे में आज हम आपके साथ रैंक 1 से लेकर रैंक 10 तक के सीकर टॉप नीट कोचिंग सेंटर की लिस्ट और उनके बारे में बेसिक जानकारी रखेंगे।

  1. मैट्रिक्स नीट डिवीज़न (Matrix NEET Division)
  2. गुरुकृपा सीकर या Gurukripa Career Institute (GCI)
  3. एलन सीकर (Allen Sikar)
  4. पीसीपी सीकर या Prince Career Pioneer
  5. सीएलसी या Career Line Coaching
  6. आयाम करियर अकैडमी (Aayaam Career Academy)
  7. आकाश इंस्टीट्यूट (Aakash Institute)
  8. समर्पण करियर इंस्टीट्यूट (Samarpan Career Institute)
  9. दयाल करियर इंस्टीट्यूट (Dyal Career Institute)
  10. इम्पल्स करियर इंस्टीट्यूट (Impulse Career Institute)

तो यह है सीकर के टॉप नीट कोचिंग सेंटर की लिस्ट (Top NEET Coaching in Sikar) जहाँ आप अपना करियर बनाने और नीट के एग्जाम को जल्द से जल्द पास करने के लिए कोचिंग लेने जा सकते हैं।

इनमें से मैट्रिक्स कोचिंग सेंटर को सीकर का टॉप लेवल का नीट कोचिंग सेंटर माना जाता है क्योंकि जब से इस कोचिंग सेंटर में नीट की शुरुआत हुई है, तब से ही इसने सीकर के बाकि के नीट कोचिंग सेंटर्स को बहुत तगड़ा कॉम्पिटिशन दिया है। वहीं एलन का नाम तो आप सभी ने सुन रखा होगा जिसकी कोटा वाली ब्रांच पूरे देश में प्रसिद्ध है। तो चलिए एक एक करके सीकर के टॉप 5 नीट कोचिंग सेंटर के बारे में जरुरी जानकारी ले लेते हैं।

  • मैट्रिक्स नीट डिवीजन – सीकर का टॉप नीट कोचिंग सेंटर

ऊपर दी गयी लिस्ट में से Matrix NEET Division को सीकर का टॉप नीट कोचिंग सेंटर बताया गया है। इसके पीछे एक नहीं बल्कि कई कारण हैं। दरअसल मैट्रिक्स अकैडमी सीकर की जानीमानी अकैडमी है जिसके सीकर में स्कूल से लेकर JEE की तैयारी करवाने के कोचिंग सेंटर हैं। तो यहाँ पर JEE की तैयारी तो बहुत पहले से ही करवायी जा रही थी और नीट की तैयारी साल 2022 से ही शुरू की गयी है।

आमतौर पर जब कोई इंस्टीट्यूट नीट की कोचिंग देना शुरू करता है तो उनके यहाँ के पहले बैच से 20 से 30 स्टूडेंट ही नीट की परीक्षा में सेलेक्ट हो पाते (Top NEET coaching in Sikar) हैं लेकिन साल 2023 के NEET UG रिजल्ट में मैट्रिक्स नीट डिवीजन के 200 से भी अधिक स्टूडेंट्स ने नीट एग्जाम को पास कर एक नया कीर्तिमान रच दिया है। यह बात अपने आप में ही किसी कोचिंग सेंटर के लिए एक बड़ी उपलब्धि के बराबर है।

अब जब हमने इसके बारे में और रिसर्च की तो पता चला कि मैट्रिक्स के स्कूल में क्लास छठी से ही बच्चों को नीट की तैयारी करवानी शुरू कर दी जाती है जिसे प्री फाउंडेशन कोर्स का नाम दिया गया है। इसी के साथ ही मैट्रिक्स ने अपनी JEE वाली ब्रांच से बहुत कुछ सीखा और नीट की कोचिंग देने के लिए देश की जानी मानी और टॉप नीट फैकल्टी को हायर किया। इसी का रिजल्ट है कि यह अकैडमी पहले साल में ही सीकर शहर में नीट की कोचिंग (NEET Coaching In Sikar) देने वाली टॉप अकैडमी बन गयी है।

  • गुरुकृपा करियर इंस्टीट्यूट – सीकर का नंबर 2 नीट इंस्टीट्यूट

साल 2022 से पहले तक अर्थात जब से मैट्रिक्स कोचिंग सेंटर ने अपनी नीट की ब्रांच नहीं खोली थी, तब तक गुरुकृपा (Gurukripa Career Institute) इस लिस्ट में टॉप पर होता था या कभी कभार एलन सीकर टॉप पर आ जाता था। हालाँकि मैट्रिक्स से पहले तो सीकर के नंबर एक नीट इंस्टीट्यूट पर एक तरह से गुरुकृपा करियर इंस्टीट्यूट या जीसीआई का ही दबदबा था जो कितने सालों के बाद अब जाकर टूटा है।

जब से मैट्रिक्स नीट डिवीजन खुला है तब से ही गुरुकृपा का पूरे सीकर शहर में जो दबदबा था, वह खत्म सा हो गया है। ऐसे में GCI आज के समय में सीकर का नंबर दो नीट कोचिंग सेंटर बनकर रह गया है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यहाँ नीट की कोचिंग देने में किसी तरह की कमी आयी है। आज भी गुरुकृपा में नीट की बहुत बढ़िया कोचिंग दी जाती है और इसी कारण ही यह सीकर के टॉप लेवल के नीट कोचिंग सेंटर (Sikar NEET Coaching Institute) में से एक बना हुआ है।

  • एलन सीकर – सीकर का नंबर 3 नीट कोचिंग सेंटर

सीकर शहर के बेस्ट लेवल के नीट कोचिंग सेंटर की बात हो रही है तो कुछ साल पहले तक एलन (Allen Sikar) इस लिस्ट में टॉप पर था लेकिन जबसे मैट्रिक्स ने अपनी नीट की ब्रांच खोली है और गुरुकृपा ने जो तैयारी की है, उसके बाद तो एलन भी खिसकर तीसरे पायदान पर आ गया है। हालाँकि एलन भी किसी मामले में अन्य नीट कोचिंग सेंटर से कम नहीं है और यही कारण है कि इसका सिक्का पूरे देशभर में चलता है।

फिर भी एलन सीकर में तीसरे नंबर पर इसलिए है क्योंकि एलन इंस्टीट्यूट के द्वारा अपनी कोटा वाली ब्रांच पर ज्यादा फोकस रखा जाता है, ना कि सीकर वाली ब्रांच पर। वैसे तो एलन सीकर में भी सभी तरह की वर्ल्ड क्लास फैसिलिटी है लेकिन मैट्रिक्स और गुरुकृपा ने उससे ज्यादा मजबूत तैयारी कर रखी है। ऐसे में आप मैट्रिक्स और गुरुकृपा के बाद सीकर के नंबर तीन नीट कोचिंग सेंटर की बात करते हैं तो उसमें एलन सीकर का ही नाम आता है।

  • प्रिंस करियर इंस्टीट्यूट – नंबर 4 नीट कोचिंग सेंटर इन सीकर

अब अगर आप सीकर में या उसके आसपास के किसी शहर में रहते हैं तो आपने मैट्रिक्स के साथ साथ प्रिंस इंस्टिट्यूट (Prince Career Pioneer) का नाम भी बहुत बार सुन रखा होगा। वह इसलिए क्योंकि जिस तरह से मैट्रिक्स के सीकर शहर में स्कूल से लेकर JEE और नीट के कोचिंग सेंटर हैं, उसी तरह प्रिंस अकैडमी भी यह सभी सुविधाएँ देता है। वहां भी बच्चों को प्री फाउंडेशन कोर्स करवाया जाता है और बाकि सभी तरह की फैसिलिटी दी जाती है।

हालाँकि अगर नीट की बेस्ट कोचिंग देने की बात आती है तो PCP Sikar उसमें ना केवल मैट्रिक्स से बल्कि गुरुकृपा और एलन से भी पिछड़ जाता है। यही कारण है कि पिछले कई सालों से प्रिंस या पीसीपी का नाम सीकर के नंबर 4 वाले नीट कोचिंग सेंटर में बना हुआ है। अगर इसे सीकर के टॉप 3 नीट कोचिंग सेंटर (Top NEET coaching in Sikar) में आना है तो अभी बहुत मेहनत किये जाने की जरुरत है।

  • करियर लाइन कोचिंग – नंबर 5 सीकर नीट कोचिंग सेंटर

सीकर के टॉप 5 नीट कोचिंग सेंटर की लिस्ट में सीएलसी या Career Line Coaching सेंटर का नाम आखिरी और पांचवीं पोजीशन पर आता है। एक समय में तो यह तीसरे से चौथे स्थान पर आया करता था लेकिन अब इसका स्थान पांचवां बना हुआ है। यहाँ भी स्टूडेंट्स को सभी तरह की फैसिलिटी दी जाती है लेकिन नीट को पढ़ाने वाली फैकल्टी उस लेवल की नहीं है, जितनी की बाकी के 4 कोचिंग सेंटर्स की है।

अब सीएलसी (CLC Sikar) में फैसिलिटी तो सभी तरह की दी जा रही है लेकिन जब फैकल्टी ही टॉप लेवल की नहीं है तो स्टूडेंट्स नीट की कोचिंग लेने में पिछड़ जाते हैं। अब आप यह मत समझे कि यहाँ की फैकल्टी उतनी अच्छी नहीं है बल्कि यहाँ की नीट फैकल्टी भी बहुत अच्छी है लेकिन अगर आप इसे ऊपर के 4 टॉप इंस्टिट्यूट से compare करेंगे तो वह इतनी अच्छी नहीं मानी जाती है। ऐसे में सीएलसी कोचिंग सेंटर सीकर में नीट के बाकि कोचिंग सेंटर से तो बेस्ट है लेकिन इसे अभी ऊपर के 4 कोचिंग सेंटर से टक्कर लेने में बहुत मेहनत करने की जरुरत है।

सीकर नीट के कोचिंग सेंटर का सक्सेस रेट

इस आर्टिकल को पढ़कर आपने सीकर के टॉप लेवल के कोचिंग सेंटर्स के बारे में बहुत कुछ जान तो लिया है लेकिन अभी भी एक और जरुरी बात जाननी रह गयी है। वह जरुरी चीज़ है इन टॉप 5 इंस्टिट्यूट का सक्सेस रेट। कहने का मतलब यह हुआ कि वहां जितने स्टूडेंट नीट की कोचिंग ले रहे हैं, उनके परसेंट में सफल होने वाले स्टूडेंट्स का रेट कितना होता है। इसे हम सक्सेस रेट के नाम से जानते हैं।

उदाहरण के तौर पर अगर मैट्रिक्स में 100 स्टूडेंट नीट की कोचिंग ले रहे हैं और 35 स्टूडेंट नीट एग्जाम में पास हो जाते हैं तो मैट्रिक्स का सक्सेस रेट 35 परसेंट है। वही किसी दूसरे इंस्टिट्यूट में 200 स्टूडेंट पढ़ रहे हैं और 40 बच्चे पास होते हैं तो उसका सक्सेस रेट 20 परसेंट है। ऐसे में आपके लिए यह सक्सेस रेट बहुत मायने रखता है क्योंकि किसी इंस्टिट्यूट को बेस्ट यही बनाता है।

  • मैट्रिक्स कोचिंग सेंटर का सक्सेस रेट आमतौर पर 40 परसेंट रहता है क्योंकि इसके पहले बैच के लगभग 40 परसेंट बच्चों का नीट के एग्जाम में सिलेक्शन हो गया है।
  • मैट्रिक्स के लिए यह अपने आप में ही एक बहुत बड़ी उपलब्धि थी जिस कारण हमने इसे सीकर के टॉप नीट कोचिंग इंस्टीट्यूट की लिस्ट में पहले नंबर पर रखा है।
  • गुरुकृपा का सक्सेस रेट 30 परसेंट है तो वहीं एलन के सक्सेस रेट के बारे में कोई स्पष्टता नहीं है। वह इसलिए क्योंकि एलन इंस्टीट्यूट अपनी सभी ब्रांच के रिजल्ट को एक साथ मिलाकर दिखाता है।
  • वहीं अगर हम प्रिंस और करियर लाइन कोचिंग सेंटर की बात करें तो उनका सक्सेस रेट क्रमशः 20 व 15 परसेंट के आसपास रहता है।
  • इसी तरह से बाकि इंस्टीट्यूट का सक्सेस रेट भी उनकी रैंकिंग के साथ नीचे गिरता चला जाता है। हालाँकि किसी किसी साल के लिए यह सक्सेस रेट कम या ज्यादा भी हो सकता है लेकिन हमने आपको ओवरऑल सक्सेस रेट के बारे में यहाँ बताया है।

हमने आपको सक्सेस रेट के बारे में इसलिए बताया क्योंकि कोई कोई इंस्टिट्यूट अपने यहाँ भर भर के स्टूडेंट ले लेता है। अब किसी इंस्टिट्यूट में एक हज़ार स्टूडेंट नीट की तैयारी करते हैं और 100 सेलेक्ट हो जाते हैं तो भी उस इंस्टिट्यूट को उससे नीचे ही माना जाएगा जहाँ के कुल 100 स्टूडेंट में से 40 बच्चे सेलेक्ट हो रहे हैं। वह इसलिए क्योंकि पहले वाले का सक्सेस रेट बस 10 परसेंट रहा जबकि दूसरे वाले का 40 परसेंट था।

निष्कर्ष

इस तरह से आज के इस आर्टिकल को पढ़कर आप सभी ने ही यह जान लिया है कि अगर आपको सीकर में नीट की कोचिंग लेनी है और उसके लिए किसी बेस्ट कोचिंग सेंटर का चुनाव करना है तो आपके लिए सबसे बढ़िया नीट कोचिंग सेंटर कौन से रहने वाले हैं। अब अगर आप अपने लिए सीकर के बेस्ट नीट कोचिंग इंस्टिट्यूट (NEET Coaching In Sikar) देख रहे हैं तो आपको बिना कुछ सोचे समझे मैट्रिक्स नीट डिवीजन में एडमिशन ले लेना चाहिए। वहीं अगर आप अपने बच्चे के लिए नीट कोचिंग का पता लगाने यहाँ आये हैं तो आप उसे मैट्रिक्स अकैडमी की वेबसाइट या कोचिंग सेंटर विजिट करने को कहें।

मैट्रिक्स के अलावा आप चाहे तो गुरुकृपा या फिर एलन में भी जाकर पता कर सकते हैं। इस बात को आपको ही देखना होगा कि आप अपने लिए या अपने बच्चों के लिए किस तरह का भविष्य देखते हैं और उसका यह भविष्य कौन सा इंस्टिट्यूट जल्दी बना सकता है। इस बात का हमेशा ध्यान रखियेगा कि सही समय पर लिया गया सही निर्णय आपका करियर और भविष्य दोनों ही बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

सीकर में नीट कोचिंग – Related FAQs

प्रश्न: सीकर में नीट के लिए कौन सी कोचिंग सबसे अच्छी है?

उत्तर: सीकर में नीट के लिए मैट्रिक्स नीट डिवीजन के द्वारा दी गई कोचिंग सबसे अच्छी कोचिंग मानी जाती है।

प्रश्न: क्या एलन सीकर नीट के लिए अच्छा है?

उत्तर: एलन सीकर नीट के लिए सीकर में तीसरे स्थान पर आता है।

प्रश्न: एलन कोटा या एलन सीकर में से कौन बेहतर है?

उत्तर: एलन कोटा एलन सीकर से बेहतर है और एलन के द्वारा अपनी कोटा वाली ब्रांच पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है।

,

NEET Ka Exam Kon De Sakta Hai | नीट का एग्जाम कौन दे सकता है

वह हर छात्र जो डॉक्टर बनने का सपना देख रहा है तो उसे भारत देश में नीट की परीक्षा में बैठना होता है ताकि बारहवीं कक्षा की पढ़ाई मेडिकल स्ट्रीम से करने के बाद वह देश के सरकारी या प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में चयनित हो सके। ऐसे में एक प्रश्न जो सभी के दिमाग में उठता है वह यह है कि नीट का एग्जाम कौन दे सकता है (NEET Ka Exam Kon De Sakta Hai) या फिर नीट की परीक्षा में बैठने के लिए पात्रता मानदंड क्या है।

ऐसे में यदि आप भी नीट की परीक्षा में बैठना चाहते हैं और नीट पात्र मानदंड 2024 के बारे में जानने को इच्छुक हैं तो आज हम इसी विषय पर ही चर्चा करने वाले (NEET Eligibility Criteria 2024 In Hindi) हैं। दरअसल भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय व मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने नीट परीक्षा 2024 में बैठने के लिए कुछ नियम निर्धारित किये हुए हैं, जिन्हें हम नीट परीक्षा पात्रता मानदंड कह सकते हैं। यह मानदंड शिक्षा, आयु, नागरिकता, कोटा सीट और कोड को लेकर बनाये गए हैं।

इसलिए आपको यदि नीट की परीक्षा में बैठना है और देश के किसी गणमान्य सरकारी या प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेना है तो उसके लिए आपको नीट एग्जाम पात्रता मानदंड के बारे में पूरी जानकारी होनी जरुरी है। इन्हें हम नीट एग्जाम एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया 2024 भी कह सकते (NEET Exam Eligibility In Hindi) हैं। तो आइये जाने नीट के एग्जाम में कौन कौन बैठ सकता है।

नीट का एग्जाम कौन दे सकता है?

नीट एग्जाम NTA अर्थात नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (National Testing Agency) ले सकती है जिसे हम हिंदी में राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी भी कह सकते हैं। इस एजेंसी को भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय व मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया मैनेज करते हैं और सभी तरह के नियम व दिशा निर्देश बनाते हैं। ऐसे में हर वर्ष जो नीट एग्जाम कंडक्ट करवाया जाता है वह इसी NTA के द्वारा ही आयोजित करवाया जाता (NEET Ka Exam Kon De Sakta Hai) है।

जो भी छात्र नीट एग्जाम में बैठता है, उसके लिए कुछ दिशा निर्देश व पात्रता मानदंड बनाये गए हैं, जिनका पालन किया जाना हर उस छात्र के लिए जरुरी है, जो देश के मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेने का इच्छुक है। यह पात्रता मानदंड छात्रों की आयु, शिक्षा के स्तर, उनकी नागरिकता, राज्य के अनुसार कोटा सीट और नीट फॉर्म भरे जाने में कोड को लेकर बनाये गए (NEET Eligibility Criteria 2024 In Hindi) हैं।

यदि आपको भी नीट की परीक्षा देनी है तो आपके लिए भी निश्चित तौर पर इन पाँचों नीट एग्जाम पात्रता मानदंड 2024 का पालन किया जाना जरुरी (NEET Exam Eligibility In Hindi) है। ऐसे में नीट का एग्जाम कौन दे सकता है और यह नीट एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया कौन कौन से हैं, उनके बारे में जान लेते हैं।

#1. नीट एग्जाम पात्रता मानदंड – आयु सीमा

जो छात्र नीट एग्जाम में बैठना चाहते हैं उनके लिए न्यूनतम व अधिकतम आयु को लेकर कुछ नियम बनाये गए हैं। ऐसे में हर वह छात्र जो नीट एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया 2024 के अनुसार आयु सीमा को जानना चाहता है तो उसे न्यूनतम आयु सीमा और अधिकतम आयु सीमा के बारे में पता होना जरुरी (NEET Exam Age Limit in Hindi) है, आइये जाने इसके बारे में।

  • नीट एग्जाम देने के लिए न्यूनतम आयु सीमा क्या है?

अब यदि आप नीट का एग्जाम देने को इच्छुक हैं तो उसके लिए जो भी छात्र नीट परीक्षा में बैठ रहा है, उसकी आयु उस वर्ष के अंत तक अर्थात 31 दिसंबर तक 17 वर्ष की हो जानी चाहिए। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि आप वर्ष 2024 की नीट परीक्षा में बैठने जा रहे हैं तो 31 दिसंबर 2024 तक आपकी आयु 17 वर्ष की हो जानी (NEET exam minimum age limit) चाहिए क्योंकि यही नीट की न्यूनतम आयु सीमा है। यदि आप 31 दिसंबर के एक दिन बाद भी 17 वर्ष के हो रहे हैं तो फिर आप उस वर्ष की नीट परीक्षा में नहीं बैठ सकते हैं।

  • नीट एग्जाम देने के लिए अधिकतम आयु सीमा क्या है?

भारत सरकार ने नीट की अधिकतम आयु सीमा के लिए नियम बनाने चाहे थे किन्तु वर्तमान में इस पर सर्वोच्च न्यायालय की रोक लगी हुई है। ऐसे में जब तक इस मामले का निपटारा नहीं हो जाता है तब तक भारत का कोई भी छात्र जो अन्य पात्रता मानदंड को पूरा करता (NEET exam maximum age limit) है, वह किसी भी आयु सीमा तक नीट की परीक्षा को दे सकता है। कहने का अर्थ यह हुआ कि वर्तमान समय में नीट एग्जाम में बैठने के लिए अधिकतम आयु सीमा का कोई फॉर्मूला नहीं है।

#2. नीट एग्जाम एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया – शिक्षा

अब जब आपने नीट एग्जाम में बैठने के आयु सीमा वाले पात्रता मानदंड के बारे में जानकारी ले ली है तो अब बारी आती है नीट एग्जाम में शैक्षणिक क्राइटेरिया जानने की जो बहुत ही ज्यादा जरुरी हो जाता है। तो इसके लिए सबसे पहले तो आप यह जान लें कि नीट की परीक्षा वही छात्र दे सकता है जिसने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से अपनी बारहवीं कक्षा की पढ़ाई पूरी कर ली (NEET exam education qualification) है और वह भी मेडिकल में या फिर फिजिक्स, केमिस्ट्री व बायोलॉजी सब्जेक्ट के साथ।

यहाँ हम यह कहना चाह रहे हैं कि नीट एग्जाम में बैठने के लिए आपका कम से कम बारहवीं पास होना जरुरी है और वो भी फिजिक्स, केमिस्ट्री व बायोलॉजी विषयों के साथ। इतना ही नहीं, इसके लिए छात्रों की जाति के आधार पर भी बारहवीं में कम से कम कितने प्रतिशत मार्क्स होने चाहिए, वह भी बताया गया  (NEET Eligibility Criteria In Hindi) है। आइये उसके बारे में भी जान लेते हैं।

  • जनरल वर्ग के छात्र

जो छात्र सामान्य श्रेणी में या जनरल केटेगरी में आते हैं, उन्हें अपनी बारहवीं की परीक्षा में न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक लाने जरुरी हैं, तभी वे नीट एग्जाम में बैठने के लिए पात्र माने जाते हैं। यदि उनके 50 प्रतिशत से कम अंक हैं तो वे नीट परीक्षा में नहीं बैठ सकते हैं या फिर उन्हें फिर से बारहवीं की परीक्षा देनी होती है।

  • आरक्षित वर्ग के छात्र (OBC, SC व ST)

अब जो भी छात्र आरक्षित या रिजर्व्ड केटेगरी से आते हैं जैसे कि अन्य पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, उन्हें अपनी बारहवीं की परीक्षा में कम से कम 40 प्रतिशत अंक लेने जरुरी हैं। ऐसे में आरक्षित वर्ग के छात्र के यदि 40 प्रतिशत या उससे अधिक अंक हैं तो वे नीट परीक्षा 2024 में बैठ सकते हैं।

  • विकलांग या PWD वर्ग के छात्र

जो छात्र विकलांग हैं, उन्हें नीट परीक्षा में बैठने के लिए न्यूनतम अंक में कुछ छूट दी गयी है जो कि 45 प्रतिशत है। तो यह नियम सामान्य वर्ग के विकलांग छात्रों के लिए है क्योंकि उनके न्यूनतम अंक की सीमा 50 प्रतिशत अंक की बजाये 45 प्रतिशत अंक हो जाती है। वहीं जो आरक्षित वर्ग के विकलांग छात्र हैं, उनके लिए तो पहले से यह ही न्यूनतम अंक की पात्रता 40 प्रतिशत है।

#3. नीट परीक्षा पात्रता मानदंड नागरिकता

अब हम बात करेंगे नीट एग्जाम में बैठने के लिए छात्रों के लिए नागरिकता का पैमाना क्या है। तो वे सभी छात्र जो भारत देश के नागरिक हैं और भारत देश में ही रह रहे हैं, वे नीट एग्जाम 2024 में बैठने के लिए पात्र माने जाएंगे। हालाँकि ऐसा नहीं है कि केवल भारत देश में रह रहे व भारत की नागरिकता लिए हुए छात्र ही नीट परीक्षा में बैठ सकते हैं क्योंकि इसके अलावा भी अन्य छात्र कुछ अन्य शर्तों के साथ नीट परीक्षा में बैठने के लिए एलिजिबल होते हैं, आइये जाने।

  • भारत देश में रह रहे और भारत की नागरिकता लिए हुए सभी छात्र नीट एग्जाम दे सकते हैं।
  • भारत के विदेशी नागरिक अर्थात Overseas citizen of India या OCI कार्ड लिए हुए छात्र भी नीट की परीक्षा दे सकते हैं।
  • अब जो छात्र जन्म से तो भारतीय हैं लेकिन अब विदेश की नागरिकता ले चुके हैं अर्थात Non-resident Indians या NRI है, वे भी नीट एग्जाम दे सकते हैं।
  • अब जो छात्र भारत में जन्मे हैं लेकिन विदेशी हैं अर्थात Persons with Indian origin या PIO कार्ड लिए हुए हैं, वे भी नीट एग्जाम दे सकते हैं।
  • बाकि बच गए वे छात्र जो विदेश में जन्मे हैं और वहीं के नागरिक हैं तो वे नीट एग्जाम नहीं दे सकते हैं लेकिन यदि वे कुछ विशेष नियम व शर्तों का पालन करते हैं और अपने देश व भारत से अनुमति ले लेते हैं तो उन्हें नीट परीक्षा में बैठने दिया जा सकता है।

इस तरह से भारत के सभी छात्र फिर चाहे वे देश में रह रहे हो या विदेश में, उनके पास चाहे नागरिकता देश की हो या विदेश की, वे बिना किसी रोकटोक के नीट एग्जाम 2024 दे सकते हैं और यहाँ के सरकारी व प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पा सकते (NEET Ka Exam Kon De Sakta Hai) हैं।

#4. नीट परीक्षा एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया कोटा सीट

नीट एग्जाम में बैठने या उसमे सेलेक्ट होने के लिए हर राज्य के अनुसार मेडिकल कॉलेज में सीट को रिजर्व या आरक्षित रखा जाता है। पहले के समय में जब नीट की परीक्षा नहीं होती थी तब सभी राज्यों का अलग-अलग AIPMT का एग्जाम होता था। इसी के साथ ही कुछ बड़े सरकारी व प्राइवेट मेडिकल कॉलेज का अलग से भी एग्जाम होता था किन्तु जब से नीट आयी (NEET exam reservation quota) है, तब से ही देश के सभी मेडिकल कॉलेज के लिए एक ही एग्जाम कर दिया गया है।

फिर भी आप जिस राज्य के हैं, वहां के मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए आपका कोटा निर्धारित किया गया होता है। हर राज्य के अनुसार वहां के सरकारी या प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए उस राज्य के छात्रों का कोटा 85 प्रतिशत होता (NEET reservation criteria 2024) है। इस तरह से राजस्थान के मेडिकल कॉलेज में 85 प्रतिशत सीट राजस्थान के ही छात्रों के लिए ही आरक्षित रखी गयी है। यदि आपको देशभर के मेडिकल कॉलेज में से किसी एक को चुनना है तो आपको बाकि बची 15 प्रतिशत कोटा सीट में अपना दावा ठोकना होगा।

#5. नीट एग्जाम देने के लिए कोड

अब बात करते हैं नीट एग्जाम के लिए भरे जाने वाले फॉर्म में कोड को भरे जाने की। तो जब आप नीट एग्जाम का फॉर्म भर रहे होते हैं तो उसके लिए आपके सामने 7 तरह के कोड होते (NEET exam code) हैं। इन कोड को 1 से 7 तक चिन्हित किया गया होता है जिसमें से किसी एक कोड का चयन आपको करना होता है। अब आपको किस कोड का चयन करना है और उस कोड का क्या मतलब होता है, आइये इसके बारे में भी जान लेते हैं।

  • कोड 01

जो छात्र अपनी बारहवीं बोर्ड की परीक्षा में शामिल होंगे या जो अपनी बारहवीं परीक्षा का परिणाम आने का इंतज़ार कर रहे हैं, उन छात्रों को कोड 01 का चयन करना (NEET exam code 01) होगा। उदाहरण के तौर पर यदि आप नीट एग्जाम 2024 में बैठने वाले हैं और आपका बारहवीं का एग्जाम 2024 में ही है या उसका परिणाम आने वाला है तो आपको इस कोड का चयन करना होगा। हालाँकि नीट कॉलेज में एडमिशन से पहले तक आपकी बारहवीं परीक्षा का परिणाम आ जाना चाहिए और उसके अंक निर्धारित मानदंडों का पालन करते हुए होने चाहिए अन्यथा आप अपात्र मान लिए जाएंगे।

  • कोड 02

नीट एग्जाम के इस कोड में दो तरह के छात्र आते हैं जो इसका चयन कर सकते (NEET exam code 02) हैं। पहले नियम के अनुसार वे छात्र इस कोड का चयन करेंगे जिन्होंने अपनी 11वीं और 12वीं की पढ़ाई सीबीएसई से ना करके ISCE से की है। उन्हें नीट परीक्षा में बैठने के लिए अपनी 11वीं और 12वीं की पढ़ाई में सब्जेक्ट के तौर पर फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी, गणित या अंग्रेजी के साथ साथ किसी अन्य वैकल्पिक विषय में पढ़ना जरुरी होता (NEET Ka Exam Kon De Sakta Hai) है।

दूसरे नियम के अनुसार, छात्रों का वह वर्ग जो भारत के किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पढ़ा हो लेकिन उसने ड्रॉप किया हो अर्थात उसकी बारहवीं उस वर्ष से एक वर्ष पहले तक समाप्त हो गयी है तो उसे भी कोड 02 का चयन करना होगा। उदाहरण के तौर पर आप नीट एग्जाम 2024 में बैठने जा रहे हैं और आपने अपनी बारहवीं की पढ़ाई वर्ष 2022 में ही पूरी कर ली थी।

  • कोड 03

नीट एग्जाम में कोड 03 का चयन वह छात्र कर सकता (NEET exam code 03) है जिसने इंटरमीडिएट या प्री डिग्री कोर्स को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से प्राप्त किया हुआ हो। उसे भी अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई में फिजिक्स, केमिस्ट्री व बायोलॉजी के साथ साथ अंग्रेजी की पढ़ाई करनी जरुरी होती है। इसमें सभी राज्य बोर्ड के छात्र आ जाते हैं जैसे कि राजस्थान बोर्ड या गुजरात बोर्ड इत्यादि।

  • कोड 04

नीट एग्जाम में कोड 04 को वही छात्र भर सकते (NEET exam code 04) हैं जिन्होंने अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा या प्री यूनिवर्सिटी या इससे संबंधित कोर्स को पूरा कर लिया है और उसके बाद प्री प्रोफेशनल या प्री मेडिकल कोर्स को किसी मेडिकल या साइंस कॉलेज से कर रहे हैं।

  • कोड 05

ऐसा छात्र जो अपनी बारहवीं कक्षा की पढ़ाई को फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी व इंग्लिश में पूरा कर चुका (NEET exam code 05) है और अब किसी यूनिवर्सिटी या कॉलेज से 3 वर्ष की पढ़ाई फिजिक्स, केमिस्ट्री व बायोलॉजी में ही कर रहा है और उसके प्रथम वर्ष में है।

  • कोड 06

ऐसा छात्र जिसने अपनी बारहवीं की पढ़ाई किसी मान्यता प्राप्त स्कूल से पीसीबी व इंग्लिश में पास कर ली (NEET exam code 06) हो और अब बीएससी की पढ़ाई कर रहा हो। उसका बीएससी के एग्जाम में फिजिक्स, केमिस्ट्री या बायोलॉजी में से किसी दो सब्जेक्ट में पास होना भी जरुरी होता है।

  • कोड 07

वह छात्र जो विदेश या अंतर्राष्ट्रीय स्तर के बोर्ड में पढ़ रहा (NEET exam code 07) हो और उसने 11वीं और 12वीं की पढ़ाई पीसीबी व इंग्लिश में की हो और अन्य पात्रता मानदंडों को पूरा करता हो।

नीट एग्जाम में कितनी बार बैठ सकते हैं?

नीट एग्जाम एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया 2024 को पूरी तरह जानने के बाद एक छोटी सी शंका जो अभी भी आपके दिमाग में रह गयी होगी, वह यह होगी कि आप नीट के एग्जाम में कितनी बार बैठ सकते हैं। अब ऊपर हमने आपको नीट एग्जाम में बैठने के लिए न्यूनतम आयु सीमा का 17 वर्ष होना तो बता दिया (NEET me kitni bar exam de sakte hai) है लेकिन अधिकतम आयु सीमा पर सर्वोच्च न्यायालय की रोक के कारण इसका कोई क्राइटेरिया नहीं है।

ऐसे में सभी के मन में यह सवाल उठना लाजमी है कि नीट की परीक्षा कितनी बार दे सकते हैं या उसे देने के लिए कितने अटेम्प्ट मिलते हैं। ऐसे में यहाँ हम आपको यह पहले ही स्पष्ट कर दें कि आप जितनी बार चाहे उतनी बार नीट की परीक्षा दे सकते हैं फिर चाहे वह 2 बार हो या 20 बार। अभी के लिए इस पर किसी तरह की रोक नही है लेकिन भविष्य में इस पर रोक लगायी जा सकती है।

हालाँकि यह भी जान लें कि एक समय के बाद छात्र का हौसला टूटने लगता है क्योंकि नीट की परीक्षा हर वर्ष लाखों छात्रों के द्वारा दी जाती है और उसमें से कुछ लिमिटेड छात्र ही चयनित हो पाते हैं। ऐसे में आपका किसी अच्छे इंस्टीट्यूट से पढ़ना जरुरी हो जाता है क्योंकि वहीं से ही आपको सही मार्गदर्शन और बेस्ट टीचर मिलते हैं। नीट की कोचिंग देने में सीकर और कोटा शहर बहुत प्रसिद्ध है। जहाँ सीकर का मैट्रिक्स इंस्टीट्यूट टॉप पर बना हुआ है तो वहीं कोटा का एलन अच्छा काम कर रहा (NEET Ka Exam Kon De Sakta Hai) है। अब यह आप पर निर्भर करता है कि आप नीट एग्जाम देने के लिए कितने सीरियस हैं।

नीट का एग्जाम कौन दे सकता है – Related FAQs 

प्रश्न: नीट के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए?

उत्तर: नीट के लिए योग्यता हमने ऊपर के लेख में विस्तार से दी है जो आपको पढ़नी चाहिए।

प्रश्न: नीट का फॉर्म कौन भर सकता है?

उत्तर: नीट का एग्जाम वह भर सकता है जिसने अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा को पीसीबी सब्जेक्ट से पास किया है बाकि की जानकारी आप ऊपर का लेख पढ़ कर प्राप्त कर सकते हो।

प्रश्न: क्या मैं 10वीं के बाद नीट दे सकता हूं?

उत्तर: नहीं, आपको अपनी 12वीं कक्षा को पास करना होगा।

प्रश्न: नीट में उम्र कितनी होनी चाहिए?

उत्तर: नीट का एग्जाम देना है तो उस साल आपकी उम्र 31 दिसंबर तक 17 वर्ष होनी चाहिए।

प्रश्न: नीट में कितने सब्जेक्ट होते है?

उत्तर: नीट में 3 विषय होते हैं फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी।

इन्हें भी पढ़ें:

,

NEET Exam Pattern In Hindi | नीट परीक्षा पैटर्न 2024 | SCAS

देशभर के मेडिकल कॉलेज में छात्रों का प्रवेश करवाने के लिए नीट का एग्जाम आयोजित करवाया जाता (NEET Exam Pattern In Hindi) है। इससे पहले AIPMT व अन्य कई तरह के एग्जाम लिए जाते थे पिछले कुछ वर्षों से सभी तरह के एग्जाम को एक साथ करके नीट की परीक्षा ली जाती है। ऐसे में बहुत से छात्रों को नीट के बारे में इतनी जानकारी नहीं होती है और खासतौर पर नीट परीक्षा पैटर्न के बारे में बहुत छात्र आशंकित रहते हैं।

हम आपको पहले ही बता दें कि नीट एग्जाम का पैटर्न समय-समय पर बदला जा सकता (NEET Exam Details In Hindi) है और वो इसको आयोजित करवाने वाली एजेंसी पर निर्भर करता है। पिछली बार नीट परीक्षा पैटर्न को वर्ष 2021 में बदला गया था और उसके बाद से इसे ही माना गया है। ऐसे में आज के इस लेख के माध्यम से हम आपके साथ नीट परीक्षा पैटर्न 2024 के बारे में ही चर्चा करने वाले हैं।

आज के इस लेख को पढ़ कर ना केवल आपको नीट एग्जाम पैटर्न 2024 के बारे में लेटेस्ट अपडेट (Merits Of NEET Exam) मिलेगी बल्कि इसमें आपसे क्या कुछ पूछा जाता है, किस विषय पर कितने प्रश्न पूछे जाते हैं, उसके कितने अंक आपको मिलते हैं, इत्यादि हरेक चीज़ के बारे में जानकारी मिलेगी। तो आइये जाने नीट परीक्षा पैटर्न हिंदी में।

नीट परीक्षा पैटर्न 2024

नीट की परीक्षा को पहली बार वर्ष 2013 में आयोजित किया गया था। उसके अगले दो साल अर्थात वर्ष 2014 व 2015 में इसे सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर स्थगित कर दिया गया (NEET Exam Details In Hindi) था लेकिन फिर वर्ष 2016 से इसे लगातार आयोजित किया जा रहा है। अभी यदि आपको भारत के किसी भी सरकारी से लेकर निजी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाना है तो उसके लिए नीट की परीक्षा को उत्तीर्ण किया जाना बहुत ही जरुरी हो जाता है।

यदि आपने नीट परीक्षा को क्लियर नहीं किया हुआ (Who Conduct NEET Exam 2024) है तो आपको सरकारी मेडिकल कॉलेज में तो प्रवेश मिलेगा ही नहीं और यहाँ तक कि उच्च व प्रसिद्ध निजी मेडिकल कॉलेज में भी सामान्य प्रवेश नहीं मिलेगा। ऐसे में नीट की परीक्षा को पास करना बहुत ही जरुरी हो जाता है। तो यदि नीट की परीक्षा को पास करना है तो उसके पैटर्न को समझना भी बहुत जरुरी हो जाता है क्योंकि इसके बिना तो आप उसे किसी भी हालत में पास नहीं कर पाएंगे।

ऐसे में यदि आपको नीट एग्जाम पैटर्न (NEET Exam Pattern In Hindi) को समझना है तो उसके लिए आपको नीट की परीक्षा में पूछे जाने वाले विषय, उसका सिलेबस, उसके कुल प्रश्न, उसके अंक व समय के बारे में जानकारी होनी बहुत ही जरुरी हो जाती है। तो हम आपको नीट परीक्षा पैटर्न 2024 के बारे में सिलसिलेवार तरीके से हर चीज़ के ऊपर विस्तृत जानकारी देंगे। आइये समझें नीट एग्जाम पैटर्न 2024 के बारे में विस्तार से।

#1. नीट एग्जाम के विषय

सबसे पहले बात करते हैं नीट की परीक्षा में पूछे जाने वाले विषयों के बारे में। तो यहाँ आप यह जान लें कि नीट की परीक्षा आपके द्वारा बारहवीं कक्षा को मेडिकल स्ट्रीम से पास करने के बाद आयोजित करवायी जाती है। इसके लिए आपके पास अपनी 11वीं व 12वीं क्लास में मेडिकल स्ट्रीम का होना अनिवार्य है और उसी के साथ ही बारहवीं में आपके कम से कम 50 प्रतिशत अंक होने जरुरी (NEET Exam Subjects 2024) हैं। हालाँकि आरक्षित वर्ग के छात्रों को इसमें कुछ छूट दी गयी है जो 40 प्रतिशत से 45 प्रतिशत के बीच की है।

नीट एग्जाम में आपसे आपके 11वीं व 12वीं विषय में पढाये गए तीन विषयों के ऊपर ही प्रश्न पूछे जाते (NEET Exam Details In Hindi) हैं। ऐसे में आपसे जिन तीन तरह के विषयों पर प्रश्न पूछे जाएंगे वह इस प्रकार हैं:

  • फिजिक्स या भौतिक विज्ञान

नीट एग्जाम में सबसे पहले तो आपसे फिजिक्स सब्जेक्ट पर प्रश्न पूछे जाते हैं जिसे हम भौतिक विज्ञान के नाम से भी जानते हैं। इसमें आने वाले प्रश्न वही होंगे जो आपने अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई में पढ़े होंगे। नीट एग्जाम में पूछे गए कुल प्रश्नों में से फिजिक्स के प्रश्नों की संख्या 25 प्रतिशत की होती है।

  • केमिस्ट्री या रसायन शास्त्र

नीट एग्जाम का दूसरा सब्जेक्ट केमिस्ट्री होता है जिसे हम रसायन विज्ञान भी कहते हैं। इसमें केमिस्ट्री के तरह-तरह के फॉर्मूला, मेथड इत्यादि विषय पर प्रश्न पूछे जाते हैं। फिजिक्स की तरह ही केमिस्ट्री के प्रश्नों की संख्या भी नीट परीक्षा में 25 प्रतिशत की होती है।

  • बायोलॉजी या जीव विज्ञान

नीट एग्जाम का जो तीसरा और सबसे महत्वपूर्ण विषय होता है वह होता है बायोलॉजी क्योंकि यही आपका नीट एग्जाम पास करवा सकता है। जितने प्रश्न फिजिक्स व केमिस्ट्री को मिलाकर पूछे जाते हैं, उतने अकेले बायोलॉजी से पूछे जाते हैं। वह इसलिए क्योंकि नीट परीक्षा में बायोलॉजी को दो भागों में तोड़कर प्रश्न पूछे जाते हैं, जो इस प्रकार है:

– जूलॉजी या प्राणी विज्ञान

इसे हम हिंदी में जंतु विज्ञान के नाम से भी जानते हैं जिसमें अलग-अलग तरह के जीव-जंतुओं और मनुष्यों के शरीर की प्रणाली पर प्रश्न पूछे जाते हैं। तो नीट एग्जाम का पैटर्न 25 प्रतिशत इसी पर ही निर्भर करता है अर्थात उसके 25 प्रतिशत प्रश्न इसी विषय पर ही पूछे जाएंगे।

– बॉटनी या वनस्पति विज्ञान

नीट एग्जाम के पैटर्न में जो अंतिम विषय होता है वह होता है बॉटनी जिसे हम वनस्पति विज्ञान भी कहते हैं। इसमें पूछे गए प्रश्नों की संख्या भी 25 प्रतिशत होती है जिसमें आपसे पेड़-पौधों के विज्ञान से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

#2. नीट एग्जाम का सिलेबस

अब बात करते हैं नीट एग्जाम के सिलेबस की। तो जैसा कि हमने आपको ऊपर ही बताया कि आपकी 11वीं और 12वीं कक्षा में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषय में जो भी सिलेबस आता (NEET Exam Syllabus 2024 In Hindi) है, वही आपसे नीट की परीक्षा में पूछे जाते हैं। इनके अलावा नीट में कोई भी प्रश्न इनके बाहर से नहीं पूछा जाता है। ऐसे में फिजिक्स केमिस्ट्री व बायोलॉजी के 11वीं और 12वीं कक्षा के विषय ही नीट एग्जाम का सिलेबस होता है।

ऐसे में आपसे जिन-जिन विषयों पर प्रश्न पूछे जा सकते (NEET Exam Pattern In Hindi) हैं या ऊपर बताये गए सब्जेक्ट में से जिन जिन विषय पर प्रश्न आ सकते हैं, उनकी सूची कुछ इस प्रकार है:

नीट एग्जाम में फिजिक्स का सिलेबस

नीट की परीक्षा में फिजिक्स विषय से जिन जिन अध्यायों या पाठ पर प्रश्न पूछे जा सकते (NEET Exam Physics Syllabus) हैं वे हैं:

  • Thermodynamics
  • गति के नियम या लॉ ऑफ मोशन
  • – Kinematics
  • करंट इलेक्ट्रिसिटी
  • एटम
  • इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव्स
  • ऑप्टिक्स
  • Gravitation
  • कार्य, ऊर्जा व शक्ति इत्यादि।

इनके अलावा जो भी अध्याय आपको फिजिक्स विषय में पढ़ाये जाएंगे, वे सभी ही नीट एग्जाम में आ सकते हैं। इसलिए आप अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई को बहुत ही ध्यान के साथ करें और फिजिक्स के हर चैप्टर को अच्छे से समझें।

नीट एग्जाम में केमिस्ट्री का सिलेबस

अब नीट के एग्जाम में केमिस्ट्री से भी वही अध्याय आते हैं जो आपने अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई में पढ़े (NEET Exam Chemistry Syllabus) होंगे। इनमें से कुछ प्रमुख विषय हैं:

  • हाइड्रोजन
  • हाइड्रोकार्बन
  • सॉलिड स्टेट
  • सलूशन या विलयन
  • Biomolecules
  • Equilibrium
  • P Block एलिमेंट्स
  • विद्युत रसायन
  • Polymers या बहुलक
  • एनवायर्नमेंटल केमिस्ट्री
  • सरफेस केमिस्ट्री इत्यादि।

फिजिक्स की तरह ही केमिस्ट्री के सभी तरह के अध्याय से प्रश्न नीट परीक्षा में पूछे जा सकते हैं जो आपने अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई में पढ़े होंगे।

नीट एग्जाम में बायोलॉजी का सिलेबस

अब करते हैं बात नीट एग्जाम के सबसे महत्वपूर्ण विषय के बारे में जो है बायोलॉजी जिसे हम जूलॉजी और बॉटनी दो भागो में तोड़कर देखते हैं। आपने भी अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई को इन दो अलग-अलग किताबों से पढ़ा (NEET Exam Biology Syllabus) होगा। ऐसे में इनमें कुछ इस तरह के विषय या अध्याय नीट एग्जाम के सिलेबस में आते हैं।

  • रिप्रोडक्शन या प्रजनन
  • आनुवांशिकी व विकास
  • मानव शरीर विज्ञान
  • कोशिका की सरंचना व कार्य
  • बायोलॉजी व ह्यूमन वेलफेयर
  • इकोलॉजी व एनवायरनमेंट
  • प्लांट फिजियोलॉजी
  • जैव प्रोद्योगिकी इत्यादि।

इसमें आपको जूलॉजी और बॉटनी में पढ़ाये जाने वाले हर तरह के अध्याय को बहुत ही बारीकी से पढ़ना होगा क्योंकि अकेले बायोलॉजी से ही आपकी नीट परीक्षा के 50 प्रतिशत प्रश्न और इतने ही अंक होंगे। ऐसे में 11वीं से ही बायोलॉजी को मन लगाकर पढ़ना शुरू कर देंगे तो बेहतर रहेगा।

#3. नीट एग्जाम के प्रश्न

अभी तक आपने नीट एग्जाम में किस किस विषय से प्रश्न पूछे जा सकते हैं और नीट का सिलेबस क्या कुछ होता है, इसके बारे में तो जान लिया है लेकिन उसमें किस विषय से कितने प्रश्न और किस पैटर्न में पूछे जाते हैं, इसके बारे में जाना जाना अभी बाकि है। ऐसे में नीट परीक्षा पैटर्न के अनुसार आपसे कुल 200 प्रश्न पूछे जाते हैं लेकिन उसमें से आपको केवल 180 प्रश्नों के उत्तर ही देने होते (NEET Exam Questions Pattern) हैं। अब यह 180 प्रश्न उन 200 में से नहीं चुनने होते हैं जबकि इनका चुनाव आपको उनके खंड के आधार पर करना होता है।

इन 200 में से हरेक विषय पर आपसे 50 प्रश्न पूछे जाते हैं। नीट में कुल 4 विषय होते हैं तो हरेक विषय के 50 प्रश्न को मिला लिया जाए तो कुल 200 प्रश्न हो जाते हैं। अब आपको उन 50 में से केवल 45 प्रश्नों के ही उत्तर देने होते हैं लेकिन इन्हें आप 50 में से किन्हीं 45 प्रश्नों को नहीं चुन सकते हैं। इसके लिए नीट परीक्षा पैटर्न बनाया गया है जिसमें प्रत्येक विषय के अनुसार दो खंड होते हैं जिन्हें खंड अ व खंड ब में बांटा गया होता है।

प्रत्येक विषय के खंड अ में कुल 35 प्रश्न होते हैं जिनके उत्तर देने जरुरी होते हैं अर्थात आपको इन 35 प्रश्नों को हल करना ही होता है और इन्हें आप छोड़ नहीं सकते हैं। वहीं प्रत्येक विषय के खंड ब में कुल 15 प्रश्न होते हैं जिनमें से आप किन्हीं 10 प्रश्नों के उत्तर देने के लिए स्वतंत्र होते (NEET Exam Question Paper Pattern) हैं जबकि अन्य 5 प्रश्नों को आप छोड़ सकते हैं। इसे आप कुछ इस तरह से समझ सकते हैं।

विषय

खंड अ

खंड ब

फिजिक्स 35 प्रश्न (सभी जरुरी) 15 प्रश्न (कुल 10 जरूरी)
केमिस्ट्री 35 प्रश्न (सभी जरुरी) 15 प्रश्न (कुल 10 जरूरी)
जूलॉजी 35 प्रश्न (सभी जरुरी) 15 प्रश्न (कुल 10 जरूरी)
बॉटनी 35 प्रश्न (सभी जरुरी) 15 प्रश्न (कुल 10 जरूरी)
कुल 140 प्रश्न (सभी जरुरी) 60 प्रश्न (40 जरुरी)

तो इस तरह से आपको इन 200 प्रश्नों में से कुल 180 प्रश्नों के ही उत्तर देने होते हैं लेकिन आपको यह प्रत्येक विषय के खंड ब में से चुनने होते हैं। खंड अ के सभी प्रश्न आपको हल करने होते हैं। हालाँकि यदि आपको कोई प्रश्न समझ नहीं आता है तो आप उसको छोड़ सकते हैं।

#4. नीट एग्जाम के नंबर

अब करते हैं नीट परीक्षा में मिलने वाले नंबर की बात। आखिरकार इन्हीं नंबर की बदौलत ही तो आप नीट एग्जाम को पास कर पाते हैं या उसमें चूक जाते हैं। तो नीट की परीक्षा में सभी विषयों से पूछे जाने वाले सभी प्रश्नों के उत्तरों के अंक एक समान ही रहते (NEET Exam Total Marks Subject Wise) हैं जो कि 4 है। ऐसे में यदि आप नीट एग्जाम में किसी प्रश्न का उत्तर देते हैं और यदि वह सही है तो उसके लिए आपको कुल 4 अंक मिलेंगे।

इसी तरह यदि आप किसी प्रश्न का उत्तर देते हैं और यदि वह गलत उत्तर है तो उसके लिए आपका 1 अंक काट लिया जाएगा। वहीं यदि आप किसी प्रश्न का उत्तर नहीं देते है तो उसके लिए आपको कोई अंक नहीं दिया जाएगा। आइये हर विषय के अनुसार नीट एग्जाम में कितने नंबर दिए जाते (NEET Exam Total Marks 2024) हैं, उसको समझ लेते हैं।

विषय

सही उत्तर के अंक गलत उत्तर के अंक कुल अंक अधिकतम अंक

न्यूनतम अंक

फिजिक्स +4 -1 180 +180 -45
केमिस्ट्री +4 -1 180 +180 -45
जूलॉजी +4 -1 180 +180 -45
बॉटनी +4 -1 180 +180 -45
कुल 720 +720 -180

इस तरह से यदि आप नीट की परीक्षा में बैठते हैं और आप सभी प्रश्नों के उत्तर देते हैं तो उसके लिए आपको अधिकतम अंक 720 मिल सकते हैं तो वहीं न्यूनतम अंक -180 आ सकते हैं।

#5. नीट एग्जाम का समय

अब यदि हम नीट एग्जाम पैटर्न के अनुसार उसको करने के लिए कुल समय की बात करें तो इसके लिए आपको 3 घंटे 20 मिनट का समय दिया जाता (NEET Exam Time Duration) है। एक तरह से आपको कुल 200 मिनट का समय नीट की परीक्षा को देने के लिए दिया जाता है। आप इन 200 मिनट में इन 180 प्रश्नों का उत्तर देने के लिए बाध्य होते हैं।

हालाँकि आपको परीक्षा शुरू होने से तुरंत पहले ही नीट परीक्षा केंद्र पर नहीं पहुंचना होता है बल्कि उससे कम से कम एक घंटा पहले वहां पहुंचना होता है। वह इसलिए क्योंकि आपको सीधे एग्जाम हॉल में नहीं ले जाया जाता है बल्कि उससे पहले आपकी आईडी चेक की जाती (NEET Exam Timing 2024) है, आपकी एंट्री करवायी जाती है और अन्य डिटेल भरी जाती है। उसके बाद ही तय समय पर नीट परीक्षा शुरू करवायी जाती (NEET Exam Pattern In Hindi) है जिसे करने के लिए 3 घंटे 20 मिनट का समय होता है।

नीट एग्जाम कौन करवाता है?

अब आपको यह भी जान लेना (Who Conduct NEET Exam 2024) चाहिए कि आखिरकार किसके द्वारा नीट एग्जाम लिया जाता है। तो जब वर्ष 2013 में नीट एग्जाम शुरू किया गया था तब मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के द्वारा नीट एग्जाम लिया गया था। उसके बाद से भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय व मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के द्वारा एक बोर्ड या एजेंसी गठित की गयी जो नीट एग्जाम करवाती है।

 इस एजेंसी को हम राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी या नेशनल टेस्टिंग एजेंसी / National Testing Agency के नाम से जानते हैं। इसे हम शोर्ट फॉर्म में NTA भी कह सकते (NEET Exam Kon Karwata Hai) हैं जिसके माध्यम से हर वर्ष नीट एग्जाम को लिया जाता है। हालाँकि इस पर नियंत्रण शिक्षा मंत्रालय और मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया का ही होता है जिनके द्वारा NTA में अधिकारियों की नियुक्ति की जाती है। इन्हीं के ऊपर ही देशभर के मेडिकल कॉलेज में छात्रों के चयन का उत्तरदायित्व होता है।

नीट एग्जाम के फायदे

अब आपको नीट एग्जाम देने के क्या कुछ फायदे होते हैं या नीट एग्जाम की मेरिट के बारे में जानकारी ले लेनी चाहिए। वैसे तो नीट एग्जाम के द्वारा ही आप भारत के टॉप लेवल के मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाते (Merits Of NEET Exam) हैं फिर चाहे वह सरकारी मेडिकल कॉलेज हो या फिर प्राइवेट मेडिकल कॉलेज। हालाँकि यह आपके लिए किस तरह से फायदेमंद होता है या नीट एग्जाम देने के क्या कुछ लाभ हैं, आइये उन पर एक नज़र डाल लेते हैं।

  • पहले के समय में मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाना होता था तो उसके लिए हर राज्य के अपने मेडिकल एंट्रेंस टेस्ट होते थे और साथ ही बड़े प्राइवेट मेडिकल कॉलेज के अलग से टेस्ट होते थे। जब से नीट आया है तब से ही हर मेडिकल कॉलेज में प्रवेश इसके माध्यम से होने लगा है।
  • अलग अलग टेस्ट देने पर आपको अलग अलग फीस का भुगतान करना होता था जबकि नीट एक ही बारी में होने वाला एग्जाम है जो देशभर में आयोजित करवाया जाता (NEET Exam Ke Fayde) है। ऐसे में आपको फीस भी एक बारी ही देनी होती है।
  • नीट के माध्यम से आपका चयन देश के किसी भी मेडिकल कॉलेज में हो सकता है और आप अपने को मिले कुल अंकों के आधार पर कोई भी मेडिकल कॉलेज भर सकते हैं या उसके लिए आवेदन भेज सकते हैं।
  • नीट की परीक्षा केवल अंग्रेजी व हिंदी में ही नहीं बल्कि भारत की 9 क्षेत्रीय भाषाओं में आयोजित करवायी जाती है। ऐसे में आप बिना किसी टेंशन के अपनी मातृभाषा में नीट एग्जाम दे सकते हैं।
  • यह हर वर्ष निर्बाध रूप से आयोजित होने वाली परीक्षा है और इसमें किसी तरह की देरी नहीं होती है क्योंकि हर वर्ष देशभर के सभी मेडिकल कॉलेज में प्रथम वर्ष के छात्रों की सीट इसी एग्जाम के माध्यम से ही भरी जाती है।

इस तरह से नीट की परीक्षा देने पर आपको कई तरह के फायदे देखने को मिलते हैं। हालाँकि बहुत से छात्र पहली बार में नीट में पास नहीं हो पाते हैं और यदि पास हो भी जाते हैं तो उन्हें अपनी पसंद का मेडिकल कॉलेज नहीं मिलता है तो वे दूसरे वर्ष नीट एग्जाम में फिर से बैठते (NEET Exam Pattern In Hindi) हैं।

यह बहुत हद्द तक इस पर भी निर्भर करता है कि आप नीट की कोचिंग किस इंस्टिट्यूट से ले रहे हैं। यदि आपको टॉप लेवल का इंस्टिट्यूट मिल जाता है तो फिर आपका पहले या दूसरे वर्ष में ही नीट में चयन हो जाता है। यदि आप सीकर शहर में नीट की कोचिंग लेने का सोच रहे हैं तो उसके लिए मैट्रिक्स इंस्टिट्यूट सबसे बढ़िया है और यदि कोटा पढ़ने जाना है तो उसके लिए एलन इंस्टिट्यूट बेहतर रहेगा।

नीट परीक्षा पैटर्न 2024 – Related FAQs

प्रश्न: नीट 2024 का नया पैटर्न क्या है?

उत्तर: नीट 2024 में 200 प्रश्न पूछे जायेंगे जिसमें से 180 प्रश्नों के उत्तर विद्यार्थी को देने होंगे और हर प्रश्न के सही होने पर 4 नंबर मिलेंगे बाकी की जानकारी आप ऊपर का लेख पढ़ कर प्राप्त कर सकते हो।

प्रश्न: नीट 2024 में कितने चैप्टर होते हैं?

उत्तर: नीट 2024 में फिजिक्स, केमिस्ट्री, बॉटनी और जूलॉजी से प्रश्न आयेंगे जिसके बारे में अधिक जानकारी आप ऊपर का लेख पढ़ कर प्राप्त कर सकते हो।

प्रश्न: नीट 2024 का पेपर कौन बनाएगा?

उत्तर: नीट 2024 का पेपर NTA द्वारा लिया जाएगा।

इन्हें भी पढ़ें:

,

NEET Exam Kya Hota Hai | नीट एग्जाम क्या होता है? | SCAS

भारत देश में मेडिकल की पढ़ाई करनी है और उसके लिए अच्छे सरकारी या फिर प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में एडमिशन चाहिए तो नीट की परीक्षा (NEET Exam Kya Hota Hai) देनी जरुरी हो जाती है। ऐसे में बहुत से लोगों के मन में यह प्रश्न उठता है कि यह नीट एग्जाम क्या होता है या फिर नीट एग्जाम क्या है। ऐसे में आज हम इस लेख के माध्यम से नीट की परीक्षा के बारे में ही बात करने वाले (NEET exam kya hai) हैं।

आज के इस लेख को पढ़ कर आपको नीट परीक्षा के बारे में सबकुछ पता चल जाएगा जैसे कि नीट एग्जाम किसलिये होता है, नीट एग्जाम कितनी बार दे सकते हैं (NEET exam kitni baar de sakte hai), नीट एग्जाम कैसे होता है, नीट एग्जाम कौन लेता है, उसका सिलेबस क्या है इत्यादि। इसे पढ़कर आपकी नीट के बारे में हरेक शंका का सरल समाधान हो जाएगा। तो आइये जाने नीट परीक्षा के बारे में।

नीट एग्जाम क्या होता है?

भारत देश में असंख्य कॉलेज व यूनिवर्सिटी है जिनमें इंजीनियरिंग से लेकर आर्किटेक्ट, मैनेजमेंट, डिज़ाइनर इत्यादि की पढ़ाई करवायी जाती है लेकिन मेडिकल कॉलेज आपको यूँ ही नहीं (NEET Exam Kya Hota Hai) दिखेंगे। ऐसे में यदि किसी शहर में मेडिकल कॉलेज है तो यह उस शहर के लिए गर्व की बात होती है क्योंकि मेडिकल कॉलेज को लाइसेंस बहुत ही मुश्किल से मिलता है। अब देशभर में जो भी मेडिकल कॉलेज है फिर चाहे वह सरकारी हो या निजी, इनमें आपको सीधे प्रवेश चाहिए तो उसके लिए नीट की परीक्षा को पास करना जरुरी होता है।

वैसे तो देशभर में कई तरह के मेडिकल कॉलेज हैं लेकिन यदि आपको टॉप के सरकारी और प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में प्रवेश चाहिए और वो भी बिना डोनेशन के तो आपको नीट एग्जाम देना (NEET exam kya hai) होगा और उसमें पास होना होगा। एक तरह से कहा जाए तो नीट एग्जाम और कुछ नहीं बल्कि इन सभी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश देने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली एक परीक्षा है।

इस परीक्षा को राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी के द्वारा आयोजित करवाया जाता है। इसे हम शोर्ट फॉर्म में NTA भी कह सकते हैं जो भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के अधीन रहकर कार्य करती है। नीट के एग्जाम की घोषणा तो वर्ष 2012 में कर दी गयी थी लेकिन इसकी आधिकारिक शुरुआत वर्ष 2013 से हुई थी। इस परीक्षा में बैठने के लिए छात्रों को कुछ नियम व शर्तों का पालन करना होता है जिनमें प्रमुख अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई मेडिकल विषय में 50 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण होना है।

यह ऑनलाइन परीक्षा ना होकर ऑफलाइन मोड में आयोजित की जाती (NEET exam kis liye hota h) है जिसे पेन व पेपर पर देना होता है। वर्ष 2016 से इसे लगातार हर वर्ष लिया जा रहा है ताकि मेडिकल कॉलेज में छात्रों को प्रथम वर्ष में प्रवेश दिया जा सके। इसके जरिये छात्रों को MBBS, BDS व AYUSH के तहत आने वाले विभिन्न कोर्स में पढ़ने का अवसर दिया जाता है। आइये इसके बारे में एक एक करके पूरी जानकारी ले लेते हैं।

नीट की फुल फॉर्म क्या है?

सबसे पहले तो हम नीट एग्जाम की फुल फॉर्म की बात कर लेते (NEET Full Form in Hindi) हैं क्योंकि बहुत से लोग इसे देना तो चाहते हैं लेकिन उन्हें इसकी फुल फॉर्म ही नहीं पता होती है। तो नीट अंग्रेजी भाषा का शब्द है जिसकी फुल फॉर्म नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (National Eligibility cum Entrance Test) होती है। हालाँकि इसका पूरा नाम नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (अंडरग्रेजुएट) / National Eligibility cum Entrance Test (Undergraduate / UG) होता है।

वहीं यदि हम नीट के हिंदी नाम की बात करें तो इसे हिंदी में राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा कहा जाता है। वहीं यदि हमे अंडरग्रेजुएट शब्द भी जोड़ना है तो उसे हम यूँ का यूँ या फिर यूजी करके जोड़ सकते हैं। इसे राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी जिसे अंग्रेजी में नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (National Testing Agency / NTA) भी कहते हैं, के द्वारा भारतीय शिक्षा मंत्रालय के अंतर्गत स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय तथा राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग के साथ मिलकर आयोजित करवाया जाता है।

नीट परीक्षा का इतिहास

अब यदि आपको नीट एग्जाम देना है या इसके बारे में जानना है तो उसके लिए आपको इसके इतिहास के बारे में भी जानकारी होनी (NEET exam history in Hindi) चाहिए। तो आपने पहले कभी AIPMT परीक्षा का नाम तो सुना ही होगा और यदि नहीं सुना है तो आज हम आपको इसके बारे में बता देते हैं। दरअसल नीट परीक्षा तो एक तरह से वर्ष 2013 में शुरू हुई थी जिसे राष्ट्रीय स्तर पर लिया गया था लेकिन उससे पहले हर राज्य के द्वारा अपनी अलग-अलग AIPMT के एग्जाम लिए जाते थे तो वहीं कई बड़े मेडिकल कॉलेज अपने खुद के एग्जाम अलग से करवाते थे।

फिर वर्ष 2013 में मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने नीट का एग्जाम लिया लेकिन इसके बाद के लिए सर्वोच्च न्यायालय ने इस पर रोक लगा दी। इस कारण यह वर्ष 2014 व 2015 में नहीं लिया गया लेकिन फिर वर्ष 2016 से इसे फिर से लागू कर दिया गया। उसके बाद से भारत के लगभग हर प्रमुख मेडिकल कॉलेज फिर चाहे वह सरकारी हो या प्राइवेट, उसके लिए नीट के एग्जाम को मान्यता दे दी गयी और AIPMT को पूरी तरह से बंद कर दिया गया।

नीट एग्जाम किसलिये होता है?

अब आपका अगला प्रश्न (NEET exam kis liye hota h) होगा कि आखिरकार नीट एग्जाम लेने की क्या जरुरत थी या नीट एग्जाम किसलिये होता है। तो इसका उत्तर यह है कि नीट का एग्जाम देकर ही हमें हमारे भविष्य के डॉक्टर मिलते हैं फिर चाहे वह एलोपैथी के हो या आयुर्वेदिक या डेंटिस्ट या अन्य कोई डॉक्टर। डॉक्टर के हाथ में ही हमारे जीवन की बागडौर होती है और यदि उनका चयन ही सही से नहीं हो पाया तो देश का भविष्य अधर में लटक सकता है।

इसी को ध्यान में रखते हुए राज्यों के बीच हो रहे असंतुलन को देखते हुए भारत सरकार व मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने यह निर्णय लिया और नीट का कांसेप्ट आया। इसके तहत भारत देश में मेडिकल की तैयारी कर रहा और डॉक्टर बनने का इच्छुक हर छात्र नीट की परीक्षा में बैठ सकता है और उसे अच्छे अंकों के साथ पास कर एक अच्छे मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पा सकता है।

नीट एग्जाम कैसे होता है?

अब बात करते हैं नीट एग्जाम को देने के बारे (NEET exam kaise hota hai) में। तो बहुत से छात्र इस बात को लेकर शंका में रहते हैं कि नीट एग्जाम का पैटर्न कैसा होता है या फिर इसे किस तरह से दिया जाता है। ऐसे में यहाँ हम आपको पहले ही बता दें कि राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी के द्वारा इसमें परिवर्तन किया जा सकता है लेकिन फिर भी अभी जो पैटर्न है, वह हम आपको बता देते हैं।

नीट की परीक्षा में कुल चार विषयों से 200 प्रश्न पूछे जाते हैं जिसमें एक पैटर्न के अनुसार आपको 180 प्रश्नों का उत्तर देना होता है। अब इसमें प्रत्येक प्रश्न का उत्तर देने पर 4 अंक मिलते हैं और गलत उत्तर देने पर 1 अंक काट लिया जाता (NEET exam kya hota hai) है। नीट की परीक्षा में अधिकतम अंक 720 होते हैं जबकि न्यूनतम अंक -180 होते हैं। आइये जाने एक एक करके इन सभी के बारे में।

  • नीट एग्जाम के सब्जेक्ट

सबसे पहले हम नीट एग्जाम में आने वाले सब्जेक्ट के बारे में बात कर लेते हैं। नीट की परीक्षा में आपसे 4 विषयों पर प्रश्न पूछे (NEET exam subjects list) जाएंगे जिनके बारे में आपने अपनी 11वीं और 12वीं की कक्षा में पढ़ा होगा। तो यह चार विषय फिजिक्स, केमिस्ट्री, बॉटनी व जूलॉजी होते हैं। इसमें से बॉटनी व जूलॉजी को हम बायोलॉजी का ही पार्ट मानते हैं जिन्हें दो हिस्सों में तोड़कर पढ़ाया जाता है। 

  • नीट एग्जाम का पैटर्न

नीट के एग्जाम में कुल 200 प्रश्न आते हैं जिनमें से आपको केवल 180 प्रश्न के ही उत्तर देने होते (NEET exam ka pattern) हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप किसी भी 180 प्रश्न के उत्तर दे देंगे। यह पैटर्न वर्ष 2021 से अप्लाई किया गया है जिसके अनुसार प्रत्येक सब्जेक्ट से 50 प्रश्न पूछे जाते हैं। इन 50 प्रश्नों को दो सेक्शन A और B में बांटा गया होता है। A सेक्शन में 35 प्रश्न आते हैं जिनका उत्तर देना अनिवार्य है तो वहीं B सेक्शन में 15 प्रश्न आते हैं जिनमें से किन्हीं 10 के उत्तर देने होते (NEET exam kaise hota hai) हैं।

  • नीट एग्जाम देने का समय

अब बात करते हैं नीट एग्जाम देने के समय के बारे में अर्थात आपको नीट की परीक्षा देने के लिए कुल कितना समय मिलता (NEET exam time duration) है। तो इसके लिए आपको कुल 3 घंटे 20 मिनट अर्थात 200 मिनट का समय मिलता है। नीट की परीक्षा दोपहर में 2 बजे शुरू होती है और 5 बजकर 20 मिनट पर समाप्त होती है। हालाँकि आपको परीक्षा शुरू होने से कम से कम एक घंटा पहले एग्जाम सेंटर पर पहुँच जाना होता है ताकि बाकि फॉर्मेलिटी पूरी की जा सके।

  • नीट एग्जाम के नंबर

नीट की परीक्षा में कुल 180 प्रश्न के उत्तर देने होते हैं और हरेक सही उत्तर के 4 अंक दिए जाते हैं। वहीं यदि आप किसी प्रश्न का गलत उत्तर देते है तो आपका एक अंक माइनस में चला जाता (NEET exam marks criteria) है। वहीं आप किसी प्रश्न का उत्तर नहीं देते है तो उसके कोई भी अंक माइनस या प्लस में नही होते हैं। इस तरह से आपको नीट की परीक्षा में अधिकतम 720 अंक और न्यूनतम -180 अंक मिल सकते है।

नीट एग्जाम देने के पात्रता मानदंड

अब यदि आपको नीट की परीक्षा देनी है और उसके लिए पात्रता मानदंड या योग्यता के बारे में जानना है तो आज हम उसके बारे में भी बता देते (NEET exam eligibility in Hindi) हैं। दरअसल बहुत से लोगों को इसको लेकर सही जानकारी नहीं होती है जिस कारण उनका एक साल ख़राब हो जाता है। ऐसे में नीट परीक्षा देने के लिए जो जो योग्यताएं आपके अंदर होनी चाहिए, वह इस प्रकार हैं:

  • न्यूनतम आयु सीमा

अब यदि आपको नीट के एग्जाम में बैठना (NEET exam age limit) है तो उसके लिए आपकी आयु कम से कम 17 वर्ष होनी ही चाहिए। यदि आप 17 वर्ष की आयु से पहले ही बारहवीं पास कर लेते हैं तो भी आप नीट की परीक्षा नहीं दे सकते हैं। वहीं इसके लिए 17 वर्ष की आयु का पैमाना हर वर्ष 31 दिसंबर से आँका जाता है। उदाहरण के तौर पर यदि आप वर्ष 2024 के लिए नीट की परीक्षा में बैठ रहे हैं तो आपकी आयु 31 दिसंबर 2024 तक 17 वर्ष की हो जानी चाहिए।

  • अधिकतम आयु सीमा

अभी के लिए नीट की परीक्षा में बैठने के लिए अधिकतम आयु सीमा का कोई मानदंड नहीं है क्योंकि सर्वोच्च न्यायालय के पास यह मामला लंबित (NEET exam age requirement) है। ऐसे में जब तक इस पर वहां से आदेश नहीं आ जाता है तब तक 17 वर्ष से ऊपर की आयु का कोई भी व्यक्ति अन्य मानदंडों को पूरा करते हुए नीट की परीक्षा में बैठ सकता है।

  • शैक्षणिक योग्यता

बहुत से छात्र इस योग्यता से चूक जाते हैं क्योंकि इसके लिए NTA ने बहुत ही कड़े मानदंड बनाये हुए है। पहले मानदंड के अनुसार सभी छात्र जो नीट की परीक्षा देना चाहते (NEET exam education qualification) हैं उन्हें अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई मेडिकल में या फिर नॉन मेडिकल बायोलॉजी के साथ करनी होगी। दूसरे मानदंड के अनुसार छात्र के बारहवीं कक्षा में कम से कम 50 प्रतिशत अंक होने चाहिए। तीसरे मानदंड के अनुसार उसके फिजिक्स, केमिस्ट्री व बायोलॉजी में भी अलग-अलग न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक होने चाहिए।

हालाँकि यह 50 प्रतिशत अंक लाने का नियम जनरल वर्ग के छात्रों के लिए है। SC, ST व OBC वर्ग के छात्रों को न्यूनतम 40 प्रतिशत अंक चाहिए होते हैं। वहीं PDW छात्रों को न्यूनतम 45 प्रतिशत अंक लाने होते हैं।

  • नागरिकता

नीट की परीक्षा में बैठने के लिए हर छात्र का भारतीय होना आवश्यक है। कोई भी छात्र जो विदेशी नागरिकता ले चुका है या विदेशी है तो उसे नीट की परीक्षा में नहीं बैठने दिया (NEET exam ke liye yogyata) जाएगा। इस तरह से यदि आप भारतीय नागरिक हैं तो ही आप नीट एग्जाम दे सकते हैं।

नीट एग्जाम कितनी बार दे सकते हैं?

अब जब आप यह जान चुके (NEET exam kitni baar de sakte hai) हैं कि नीट को देने के लिए न्यूनतम आयु सीमा 17 वर्ष है और अधिकतम आयु सीमा का मामला सर्वोच्च न्यायालय में लंबित चल रहा है तो ऐसे में नीट एग्जाम कितनी बार दिया जा सकता है, यह प्रश्न उठाना स्वाभाविक है। ऐसे में आज हम आपको बता दें कि वर्तमान नियमों के अनुसार नीट की परीक्षा देने के लिए कोई लिमिट नहीं है और यह आप 17 वर्ष की आयु होने के बाद बाकि के सभी मानदंडों को पूरा करते हुए कितनी भी बार दे सकते हैं।

हालाँकि इस पर जैसे ही अधिकतम आयु सीमा का निर्णय सर्वोच्च न्यायालय से (NEET Exam Kya Hota Hai) आएगा तो इसकी भी एक लिमिट निर्धारित हो जाएगी। इसी के साथ ही कभी भी यह निर्णय भी लिया जा सकता है कि एक छात्र अपनी न्यूनतम व अधिकतम आयु सीमा के बीच में कितनी बार नीट की परीक्षा में बैठ सकता है लेकिन अभी इसके बारे में चिंता करने की कोई जरुरत नहीं है।

नीट एग्जाम का सिलेबस

अब यदि आप नीट एग्जाम का सलेबस जानना चाहते हैं तो उसके लिए कोई अलग से सलेबस नहीं होता (NEET exam ka syllabus) है। वह इसलिए क्योंकि जो भी विषय और उसके अंतर्गत आने वाले सभी चैप्टर आपने अपनी 11 वीं और 12 वीं कक्षा में पढ़े हैं, उन्हें ही नीट की परीक्षा में आपसे पूछा जाता है। अब यह तो हमने आपको ऊपर ही बता दिया है कि नीट की परीक्षा में 4 विषय आते हैं जो फिजिक्स, केमिस्ट्री, बॉटनी व जूलॉजी होते हैं।

ऐसे में आपके यह चारों विषय दोनों कक्षाओं में आये होंगे और उन दो वर्षों में आपने इन चारों विषयों में कई तरह के चैप्टर को पढ़ा होगा। तो आपने इस दौरान जो भी चैप्टर पढ़े हैं, उनमे से किसी पर भी यह 200 प्रश्न पूछे जा सकते हैं। इसलिए यदि आपको नीट का एग्जाम जल्द से जल्द और अच्छे अंकों के साथ पास करना है तो उसके लिए आपको 11वीं और 12वीं की पढ़ाई को सीरियस होकर पढ़ना (NEET Exam Kya Hota Hai) होगा।

वहीं आपको केवल 11वीं और 12वीं की पढ़ाई ही नहीं पढ़नी है बल्कि उसके साथ साथ नीट की अलग से तैयारी भी करने लग जाना है। इसके लिए भारत के लाखों बच्चे भारत के विभिन्न शहरों में कोचिंग लेने जाते हैं। नीट की तैयारी करवाने में दो शहर प्रमुख हैं जिनके नाम सीकर व कोटा है। ऐसे में सीकर का मैट्रिक्स इंस्टीट्यूट (Matrix Academy) और कोटा की एलन अकैडमी नीट की तैयारी करवाने में पूरे देश में टॉप पर बने हुए हैं। ऐसे में आपको बिना देर किये अभी से ही नीट की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

नीट एग्जाम की अन्य जानकारी

अब जाते जाते आपको नीट एग्जाम के बारे में जो जानकारी रह गयी (NEET exam information in Hindi) है, इसके बारे में भी जानकारी दे देते हैं ताकि आपके मन में नीट को लेकर किसी प्रकार की शंका ना रहे।

  • नीट का एग्जाम एक वर्ष में एक बार ही आयोजित करवाया जाता है। ऐसे में यदि आपका उस वर्ष सलेक्शन नहीं हुआ है तो आपको अगले वर्ष होने वाली नीट की परीक्षा की अभी से ही तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।
  • नीट को अंग्रेजी के साथ-साथ भारत की 9 अन्य भाषाओँ में भी आयोजित करवाया जाता (NEET exam language) है जो है: हिंदी, आसामी, बंगाली, गुजराती, कन्नड़, मराठी, उड़िया, तमिल व तेलुगु।
  • जब नीट की परीक्षा की शुरुआत हुई थी अर्थात वर्ष 2013 में लगभग 6.5 लाख बच्चों ने इसकी परीक्षा दी थी। यदि हम हाल के ही वर्ष की बात करें तो वर्ष 2023 में 20 लाख से अधिक छात्र नीट के एग्जाम में बैठे थे।
  • नीट में जिन छात्रों का चयन हो जाता (NEET exam courses list) है उन्हें भारत में MBBS, BDS, BAMS, BUMS व BHMS इत्यादि मेडिकल कोर्स करने की अनुमति मिलती है।
  • इसके तहत भारत में हर वर्ष 1.7 लाख से ऊपर छात्रों का चयन किया जाता है जिन्हें देशभर के विभिन्न मेडिकल कॉलेज के विभिन्न कोर्स में प्रवेश मिलता है।

इस तरह से 20 लाख बच्चों में से नीट की परीक्षा में चयनित होने की संभावना जरुर ही 20 प्रतिशत के आसपास है लेकिन साथ ही इसमें रैंक भी बहुत मायने रखती (NEET Exam Kya Hota Hai) है। वह इसलिए क्योंकि यदि आप अच्छी रैंक लायेंगे तो आपका टॉप के मेडिकल कॉलेज में प्रवेश होगा वहीं कम रैंक लाने पर आपको कॉलेज भी लो लेवल वाले ही मिलेंगे। ऐसे में बिना देर किये आज से ही नीट एग्जाम की जमकर तैयारी करना शुरू कर दीजिये।

नीट एग्जाम क्या होता है – Related FAQs

प्रश्न: नीट का एग्जाम देने से क्या बनते हैं?

उत्तर: नीट का एग्जाम देने से आपका भारत के मेडिकल कॉलेज में एडमिशन होता है और आप एमबीबीएस, बीडीएस आदि कोर्स कर पाते हो।

प्रश्न: नीट में कितने सब्जेक्ट होते है?

उत्तर: नीट में 4 विषय होते हैं फिजिक्स, केमिस्ट्री, बॉटनी व जूलॉजी।

प्रश्न: नीट के लिए 12वीं में कितने मार्क्स चाहिए?

उत्तर: नीट के लिए 12वीं कक्षा में जनरल कैटेगरी वालों को न्यूनतम 50 प्रतिशत और SC, ST व OBC वर्ग के छात्रों को न्यूनतम 40 प्रतिशत तो वहीं PDW छात्रों को न्यूनतम 45 प्रतिशत अंक लाने होते हैं।

प्रश्न: नीट में कितने नंबर आने पर सरकारी कॉलेज मिलता है?

उत्तर: वैसे तो यह आंकड़ा कट ऑफ पर निर्धारित होता है लेकिन यदि आप जनरल वर्ग के छात्र हैं तो कम से कम आपके 620 अंक तो होने ही चाहिए।

प्रश्न: नीट का पेपर कौन सी भाषा में आता है?

उत्तर: नीट का पेपर अंग्रेजी के साथ-साथ भारत की 9 अन्य भाषाओँ में भी आयोजित करवाया जाता है जो है: हिंदी, आसामी, बंगाली, गुजराती, कन्नड़, मराठी, उड़िया, तमिल व तेलुगु।

इन्हें भी पढ़ें:

, ,

Allen Sikar Vs Matrix Sikar | एलन या मैट्रिक्स: कौन है बेहतर | SCAS

अब यदि आप सीकर शहर में रहते हैं और इंजीनियर या डॉक्टर बनने के लिए JEE व NEET की तैयारी करने को इच्छुक हैं तो सीकर में इसके लिए एक से बढ़कर एक इंस्टीट्यूट हैं। अब जो भी इंस्टीट्यूट होता है, वह अपने आप को बाकि सभी कोचिंग इंस्टीट्यूटस से बेहतर बताने का ही प्रयास करता है और यही उसका काम भी है। किन्तु लोगों को तो पता ही होता है कि किस इंस्टीट्यूट के बच्चे ज्यादा अच्छा कर रहे हैं और किसके नहीं।

अब सीकर और उसके आसपास के लोगों को पता ही (Which is best Allen or Matrix) है कि सीकर में दो कोचिंग इंस्टीट्यूट के नाम सबसे ज्यादा प्रचलित हैं और वे है मैट्रिक्स अकैडमीएलन सीकर (Allen Sikar Vs Matrix Sikar)। चिंता की बात यह है कि बहुत से लोग इस बात को लेकर आशंकित रहते (Allen Sikar Vs Matrix Academy) हैं कि एलन सीकर और मैट्रिक्स इंस्टीट्यूट में से कौन सा बेहतर कोचिंग सेंटर है। ऐसे में यदि आप भी मैट्रिक्स व एलन सीकर के बीच कौन बेहतर है, को लेकर जानना चाह रहे हैं तो इस लेख को पूरा पढ़ें।

एलन सीकर और मैट्रिक्स अकैडमी में से कौन बेहतर है?

बहुत से लोग इस प्रश्न का जवाब जानना चाहते हैं लेकिन कोई उन्हें मैट्रिक्स अच्छा कहता है तो कोई एलन। ऐसे में आपका इन दोनों के बीच उलझन में पड़ जाना लाजमी है किन्तु यदि आप इसका जवाब जानने को गंभीर हैं तो आपके लिए ही हमने इस विषय पर गहन रिसर्च की (Matrix Sikar Vs Allen Sikar) है ताकि आपकी बात का सही सही उत्तर दिया जा सके।

इसके लिए हमने ना केवल ऑनलाइन व ऑफलाइन रिसर्च की बल्कि दोनों इंस्टीट्यूट में पढ़ रहे बच्चों और उनके माता-पिता से भी बात की। इसी के साथ ही हमने दोनों इंस्टीट्यूट की फैकल्टी और रिजल्ट को भी अच्छे से स्टडी किया और उसी के आधार पर ही हम यह लेख लिखने जा रहे (Matrix Academy Vs Allen Sikar) हैं। आइये जाने मैट्रिक्स अकैडमी व एलन सीकर में से आखिरकार बेहतर इंस्टीट्यूट कौन सा है।

#1. इंफ्रास्ट्रक्चर व फैसिलिटी

अब यदि हम एलन सीकर और मैट्रिक्स अकैडमी के द्वारा जो इंस्टीट्यूट खड़ा किया गया है और इनका जो इंफ्रास्ट्रक्चर है उसकी बात करें तो वह दोनों का ही अद्भुत है। कहने का मतलब यह हुआ कि बिल्डिंग के इंफ्रास्ट्रक्चर और वहां बैठने की सुविधा के मामले में दोनों ही एक दूसरे से किसी मामले में कम नहीं (Which is best Allen or Matrix) हैं। इसी के साथ ही मैट्रिक्स व एलन दोनों ही अपने यहाँ पढ़ रहे बच्चों को हर तरह की सुविधा भी दे रहे हैं।

हालाँकि जब हमने दोनों इंस्टीट्यूट के बच्चों से बात की तो पता चला कि मैट्रिक्स के द्वारा जो हॉस्टल की सुविधा दी जा रही है, वहां एलन के मुकाबले ज्यादा फ्रेंडली व स्टडी पर फोकस्ड वाला माहौल है। ऐसे में अगर आप सीकर शहर में बाहर से पढ़ने के लिए आ रहे हैं तो एलन के मुकाबले मैट्रिक्स के हॉस्टल ज्यादा सही रहेंगे।

#2. फैकल्टी का अनुभव

आप जिस भी कोचिंग सेंटर में पढ़ें लेकिन यदि वहां की फैकल्टी ही उत्तम दर्जे की नहीं है या उनके खुद के कॉन्सेप्ट क्लियर नहीं हैं या वे JEE व NEET के एग्जाम को जल्दी क्रैक करने की सही ट्रिक्स नही जानते हैं तो उस कोचिंग सेंटर में पढ़ने का कोई फायदा नहीं। अब किसी फैकल्टी को यह सब कैसे आता है? इसका जवाब है उस फैकल्टी का टॉप कॉलेज से पढ़े होना और इसी के साथ ही उसका पढ़ाने का लंबा अनुभव।

अब यदि हम दोनों इंस्टीट्यूट की फैकल्टी की बात करें तो मैट्रिक्स की 80 प्रतिशत फैकल्टी को 14 वर्षों से ज्यादा का अनुभव है तो वहीं एलन की 60 प्रतिशत फैकल्टी को 10 वर्षों से ज्यादा का अनुभव है। हालाँकि एलन की फैकल्टी टॉप कॉलेज से पढ़ी हुई है लेकिन उन्हें कुछ ही समय में एलन कोटा में शिफ्ट कर दिया जाता है और कम अनुभवी फैकल्टी को एलन सीकर में भेज दिया जाता है।

#3. स्टूडेंट्स व फैकल्टी का रेश्यो

अब आप ही सोचिये कि आप किसी क्लास में JEE व NEET की कोचिंग ले रहे हैं और उसमे एक टीचर 100 छात्रों को पढ़ा रहा है तो आप उसमे अपने डाउट आसानी से पूछ पाएंगे या फिर वह क्लास जिसमें 40 से 50 बच्चों को एक टीचर पढ़ा रहा है। तो इसी को ही स्टूडेंट व टीचर का रेश्यो कहा जाता है। आज के टाइम में ज्यादा पैसे कमाने के लालच में बहुत से इंस्टीट्यूटस अपने यहाँ बच्चों को तो भर लेते हैं लेकिन टीचर्स उनके पास होते नहीं हैं।

अब एलन तो एक फेमस नाम है क्योंकि उसकी कोटा वाली ब्रांच पूरे राजस्थान में क्या पूरे भारत में फेमस है। हालाँकि एलन कोटा है भी बहुत दमदार ब्रांच और कोटा में उसका कोई मुकाबला नहीं है लेकिन उसके नाम की देखादेखी ही एलन सीकर में भी बच्चों की भीड़ लगी रहती है। वहीं मैट्रिक्स का सिक्का भी पूरे सीकर शहर में चलता है तो उसमे भी बच्चों की भीड़ लगी रहती है लेकिन मैट्रिक्स ने उसके हिसाब से बच्चों के ऊपर टीचर्स की भर्ती की हुई है। जिस कारण मैट्रिक्स का स्टूडेंट टीचर रेश्यो एलन की तुलना में बेहतर है।

#4. JEE व NEET की फीस

अब यदि हम मैट्रिक्स और एलन सीकर में JEE व NEET के बैच के लिए ली जाने वाली फीस की बात करें तो उसमे तो ज्यादा कुछ अंतर देखने को नहीं मिलता है। दोनों के द्वारा ही एक जैसी ही फीस अपने छात्रों से ली जाती है। ऐसे में दोनों ही इस मामले में बराबरी पर हैं लेकिन फीस के अलावा और भी बहुत चीज़ होती है जो आपको देखनी चाहिए।

अब मैट्रिक्स के बारे में हमें एक बात बहुत अच्छी लगी जो हमें वहां पढ़ रहे बच्चों से पता चली। वह यह थी कि मैट्रिक्स कभी भी अपने यहाँ पढ़ रहे बच्चों के लिए बंद नहीं होता है। कहने का मतलब यह हुआ कि वह हफ्ते के सातों दिन और साल के 365 दिन खुला रहता है और आप कभी भी जाकर वहां पढ़ सकते हैं, टीचर्स से डाउट पूछ सकते हैं और एग्जाम की तैयारी कर सकते हैं। बच्चों के लिए अपने इंस्टीट्यूट को हमेशा खुला रखने वाली यह आदत मैट्रिक्स को पूरे सीकर शहर में तो क्या पूरे भारत में ही एक अलग पहचान देती है।

#5. स्टूडेंट्स का एग्जाम रिजल्ट

अब करते हैं सबसे जरुरी बात और वो है एलन सीकर और मैट्रिक्स अकैडमी में पढ़ रहे बच्चों के परीक्षा परिणाम के बारे में। आखिरकार आप सभी इसलिए ही तो यहाँ पढ़ने जाते हैं ताकि आपका एग्जाम रिजल्ट सबसे बेहतर रहे और आप जल्द से जल्द JEE व NEET की परीक्षा को क्रैक कर कॉलेज में एडमिशन ले सकें। तो आप चाहे सीकर शहर के अख़बार उठाकर देख लें या फिर राजस्थान के या फिर JEE व NEET की एग्जाम रिजल्ट वाली वेबसाइट पर चले जाएं, हर जगह आपको मैट्रिक्स एलन सीकर की तुलना में ऊपर दिखाई देगा।

इतना ही नहीं, पिछले कई वर्षों से मैट्रिक्स के बच्चे एलन सीकर से तो क्या बल्कि पूरे सीकर शहर में ही टॉप कर रहे हैं। यह भी एक कारण है कि मैट्रिक्स की प्रसिद्धि सीकर से बाहर पूरे राजस्थान में भी फैलने लगी है और दूर दूर से बच्चे इस इंस्टीट्यूट में पढ़ने आने लगे हैं। हाल ही में आये JEE Main 2023 के रिजल्ट में मैट्रिक्स के मयंक सोनी ने 100%ile लाकर पूरे सीकर शहर में टॉप किया है।

निष्कर्ष

इस तरह से आज के इस लेख के माध्यम से आपने जाना कि यदि हम मैट्रिक्स अकैडमी और एलन सीकर के बीच में तुलना करेंगे तो उसमे शीर्ष पर किसका नाम उभर कर आता है। दरअसल सीकर में रहने वाले बहुत से लोग इस बात को सोच कर खुश हो जाते हैं कि JEE व NEET की तैयारी करवाने वाला एक प्रसिद्ध इंस्टीट्यूट एलन की ब्रांच उनके शहर में भी खुल गयी है लेकिन सच्चाई कुछ और है।

अब बेशक एलन एक बहुत बड़ा नाम है और उसके द्वारा सबसे बेहतर रिजल्ट भी दिया जाता है लेकिन वह अपनी कोटा वाली मुख्य ब्रांच पर ज्यादा फोकस करता है और सीकर वाली ब्रांच पर इतना ध्यान नहीं देता है। वहीं दूसरी ओर, मैट्रिक्स सिर्फ सीकर का ही इंस्टीट्यूट है और उसने पिछले कई वर्षों में इतनी ज्यादा मेहनत की है कि उसका परिणाम उसके यहाँ पढ़ रहे बच्चों के द्वारा लगातार JEE व NEET की परीक्षा में टॉप करके दिख रहा है।

इन्हें भी पढ़ें:

,

Know About Best Coaching For NEET In Sikar | SCAS

बहुत से बच्चे बड़े-बड़े अरमान लेकर आगे बढ़ते हैं और दूसरे शहर में पढ़ने जाते हैं ताकि उनका भविष्य बेहतर बन सके। अब इसमें कोई इंजीनियरिंग की तैयारी के लिए जाता है तो कोई कानून की लेकिन जो बच्चे मेडिकल में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं, उन्हें कुछ ज्यादा ही मेहनत करने की जरुरत होती है। ऐसे में यदि उन्हें अपने शहर या अपने (Best NEET Coaching in Sikar) यहाँ की पास की किसी जगह में ही नीट की कोचिंग के लिए अच्छा व बेस्ट इंस्टीट्यूट (Best Coaching For NEET In Sikar) मिल जाए तो यह सोने पे सुहागा वाला काम हो जाता है।

आज हम बात कर रहे हैं सीकर के बेस्ट नीट कोचिंग सेंटर की जहाँ आप पढ़ने जा सकते हैं। पहले के समय में इसमें केवल कोटा शहर का ही नाम लिया जाता था लेकिन वर्तमान समय में सीकर भी नीट एजुकेशन हब बन गया है जहाँ से कोटा के बराबर रिजल्ट दिया जा रहा (Sikar NEET Coaching) है। ऐसे में आप भी सीकर के टॉप कोचिंग इंस्टीट्यूट के बारे में जानने का अधिकार रखते हैं। आज हम आपके साथ उसी की ही चर्चा करने वाले हैं।

सीकर के टॉप नीट कोचिंग इंस्टीट्यूट

एक समय था जब देश के सभी राज्यों से लोग कोटा शहर ही नीट की बेस्ट कोचिंग लेने आया करते थे लेकिन यदि आप आज के समय में अच्छे से अध्ययन करेंगे तो पाएंगे कि बहुत से शहर कोटा का मुकाबला कर रहे हैं और इसमें सीकर शहर टॉप पर आता है। वजह है सीकर शहर में नीट के कोचिंग सेंटर्स जो कोटा शहर के जैसा ही परिणाम दे रहे (Best NEET Coaching in Sikar) हैं। यही कारण है कि हर दिन के साथ सीकर शहर में नीट की कोचिंग लेने आने वाले छात्रों की संख्या तेजी के साथ बढ़ती ही जा रही है।

अब सीकर शहर में भी नीट के कई तरह के इंस्टीट्यूटस व कोचिंग सेंटर्स खुल चुके (Best NEET Coaching In Sikar) हैं तो ऐसे में आपके लिए सीकर का बेस्ट कोचिंग इंस्टीट्यूट कौन सा रहने वाला है, यह भी एक अलग समस्या है। तो आप परेशान बिल्कुल मत होइए क्योंकि आज हम आपकी इसमें सहायता करने वाले हैं।

हमने सीकर शहर के कई नीट कोचिंग सेंटर्स में जाकर पता किया, उनकी वेबसाइट व सोशल मीडिया अकाउंट्स खंगाले, वहां पढ़ रहे बच्चों का नीट रिजल्ट देखा और उसके अनुपात में कितना सक्सेस रेट रहा यह भी जाना, इसी के साथ ही हमने वहां पढ़ रहे छात्रों और उनके माता-पिता से बात कर उनका अनुभव भी जानने की कोशिश की। तो इन्हीं सब काम के आधार पर हमने आपके लिए सीकर शहर के टॉप नीट कोचिंग सेंटर्स की एक लिस्ट बनायी है, जो कि इस प्रकार है:

रैंक 1. मैट्रिक्स नीट डिवीज़न (Matrix NEET Division)

रैंक 2. गुरुकृपा सीकर या Gurukripa Career Institute (GCI)

रैंक 3. एलन सीकर (Allen Sikar)

रैंक 4. पीसीपी सीकर या Prince Career Pioneer

रैंक 5. सीएलसी या Career Line Coaching

अब वैसे तो सीकर शहर में नीट की कोचिंग कई अन्य कोचिंग सेंटर्स के द्वारा भी करवायी जा रही है लेकिन उनमे से यही पांच इंस्टीट्यूट टॉप पर आते हैं। इनमे भी मैट्रिक्स नीट डिवीज़न का नाम शीर्ष पर बना हुआ है। इसको लेकर भी कई तरह के कारण हैं जिनमे से कुछ मुख्य कारण मैट्रिक्स अकैडमी की फैकल्टी, वहां का नीट परीक्षा परिणाम और छात्रों को मिल रही तरह-तरह की सुविधाएँ हैं।

इसके साथ ही गुरुकृपा व एलन का नाम भी सीकर में नीट की कोचिंग देने में शीर्ष संस्थानों में से एक बना हुआ है लेकिन वे भी मैट्रिक्स से थोड़ा पीछे हैं और उसके बराबर आने में उन्हें शायद कुछ वर्षों का समय लग सकता है। हालाँकि मैट्रिक्स हर वर्ष नयी बुलंदियों को छू रहा है और इसका परिणाम आप नीट की परीक्षा में मैट्रिक्स के छात्रों की सफलता को देखकर लगा सकते (NEET Coaching in Sikar) हैं जो सीकर में सबसे बढ़िया सक्सेस रेट है।

वहीं यदि प्रिंस या सीएलसी की बात करें तो इन्होने पिछले कुछ वर्षों में नीट की कोचिंग देने में अच्छा काम किया है जिस कारण ये सीकर के टॉप 5 नीट इंस्टीट्यूट में जगह बना पाए हैं। हालाँकि इन्हें अभी भी टॉप 3 नीट कोचिंग सेंटर्स का मुकाबला करने के लिए बहुत मेहनत करने की जरुरत है। फिर भी ये दोनों सीकर के अन्य नीट कोचिंग सेंटर्स से बहुत ज्यादा अच्छा काम कर रहे हैं।

सीकर में मेडिकल की बेस्ट फैकल्टी

अब किसी कोचिंग इंस्टीट्यूट की पहचान वहां पढ़ा रही फैकल्टी के कारण ही बन पाती (Best Medical Faculty In Sikar For NEET) है। यदि किसी अच्छे व होशियार छात्र को बेकार नीट की फैकल्टी मिले तो संभव है कि वह उतनी तेज गति से आगे ना बढ़ पाए जितना वह बढ़ सकता था। वहीं यदि कम होशियार छात्र को भी मार्गदर्शक के रूप में एक अच्छा फैकल्टी टीचर मिले तो वह अपने अनुमान से तेज गति से आगे बढ़ सकता है।

ऐसे में हमने आपके लिए सीकर के बेस्ट नीट कोचिंग सेंटर्स में जाकर पड़ताल की और उसके अनुसार देखा कि किस कोचिंग सेंटर की फैकल्टी अच्छा काम कर रही है और किन्हें वहां के छात्र भी पसंद करते हैं। तो इसमें शीर्ष पर मैट्रिक्स की ही फैकल्टी मिली जिस कारण हमने उसे सीकर के टॉप कोचिंग सेंटर्स की लिस्ट में पहला स्थान दिया है, आइये जाने।

सीकर की टॉप फिजिक्स फैकल्टी (Top Physics Faculty In Sikar For NEET)

  • मदन सर (मैट्रिक्स)
  • शंकर सर (मैट्रिक्स)
  • प्रमोद सर (एलन)

सीकर की टॉप केमिस्ट्री फैकल्टी (Top Chemistry Faculty In Sikar For NEET)

  • मान सर (मैट्रिक्स)
  • प्रदीप सर (गुरुकृपा)
  • सुरेन्द्र सर (एलन)

सीकर की टॉप बायोलॉजी फैकल्टी (Top Biology Faculty In Sikar For NEET)

  • अरिहंत सर (मैट्रिक्स)
  • योगेन्द्र सर (गुरुकृपा)
  • अभिनव सर (मैट्रिक्स)

नीट में सीकर के बेस्ट कोचिंग इंस्टीट्यूटस का रिजल्ट

अब हमने फैकल्टी की बात तो कर ली लेकिन उसी के साथ ही हमें यह भी जानना चाहिए कि आखिरकार सीकर के किस नीट कोचिंग सेंटर के छात्र अच्छा कर रहे हैं और नीट की परीक्षा में पास हो रहे हैं। तो जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है कि इसमें भी मैट्रिक्स नीट डिवीज़न के बच्चों ने बहुत ही अच्छा काम किया (Sikar NEET Result 2023) है।

दरअसल मैट्रिक्स अकैडमी में पहले केवल IIT JEE की ही तैयारी करवायी जाती थी लेकिन पिछले एक वर्ष से ही नीट के लिए भी बैच शुरू किये गए हैं और इसके लिए उन्होंने पूरी तैयारी की है। मैट्रिक्स ने अन्य नीट कोचिंग सेंटर्स के मुकाबले अपने यहाँ नीट की कोचिंग शुरू करने में इतना समय इसलिए लिया क्योंकि वे बेस्ट टीचर्स को अपने यहाँ लेने के बाद ही इसकी शुरुआत करना चाहते थे ताकि छात्रों को उत्तम शिक्षा मिल सके।

इसी का ही परिणाम है कि वर्ष 2023 के आये नीट परीक्षा परिणाम में मैट्रिक्स के 200 से भी अधिक छात्रों ने अपना चयन करवा लिया है जिनका सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन होना लगभग तय है। वहीं यदि हम गुरुकृपा की बात करें तो यह इंस्टीट्यूट कई वर्षों से बच्चों को नीट की कोचिंग दे रहा है और इसी कारण यहाँ पर नीट में कई छात्र पढ़ रहे हैं। वर्ष 2023 के नीट रिजल्ट में गुरुकृपा से 1800 से ऊपर बच्चे चयनित हुए हैं लेकिन मैट्रिक्स का बच्चों के अनुपात में सक्सेस रेट ज्यादा है।

वहीं एलन इंस्टीट्यूट कभी भी अपनी सीकर ब्रांच का अलग से रिजल्ट नहीं बताता है। इसके लिए वह अपनी कोटा की ब्रांच का रिजल्ट भी उसमे मिक्स कर देता है। वैसे भी एलन के द्वारा मुख्य तौर पर अपनी कोटा वाली नीट ब्रांच पर ध्यान दिया जाता है, ना कि सीकर वाली। वहीं प्रिंस व सीएलसी के छात्रों का रिजल्ट भी संतोषजनक रहा है।

निष्कर्ष

अब यदि हम अंत में बेस्ट नीट कोचिंग इंस्टीट्यूट इन सीकर की बात करेंगे तो उसमे केवल एक ही नाम उभर कर आता है वह है मैट्रिक्स। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि जो नीट इंस्टीट्यूट इतने वर्षों से चले आ रहे थे और सीकर में लगातार टॉप पर बने हुए (Best Coaching For NEET In Sikar) थे, मैट्रिक्स अकैडमी ने पहले ही वर्ष में उन्हें कड़ी टक्कर दे दी है और अपना दमखम दिखा दिया है।

अब जो इंस्टीट्यूट पहले ही वर्ष में सीकर के टॉप नीट कोचिंग सेंटर्स को टक्कर दे दे तो अवश्य ही वह उन्हें आने वाले समय में बहुत पीछे छोड़ (Sikar NEET Coaching) देगा। वहीं हमने मैट्रिक्स को सीकर के बेस्ट कोचिंग इंस्टीट्यूट में इसलिए भी रखा क्योंकि वहां की नीट फैकल्टी शानदार है जिनका पिछला रिकॉर्ड बहुत ही लाजवाब रहा है। ऐसे में जहाँ की फैकल्टी ही इतनी अनुभवी व शानदार हो तो वहां होशियार छात्र तो टॉप करेंगे ही करेंगे बल्कि कम होशियार छात्र भी एक ही बारी में नीट क्लियर कर देंगे।

इन्हें भी पढ़ें:

,

Matrix NEET Sikar | मैट्रिक्स नीट सीकर (पूरी जानकारी) | SCAS

मैट्रिक्स अकैडमी अब सीकर शहर की एक पहचान बन चुकी है क्योंकि सीकर को कोटा के मुकाबले में लाने में मैट्रिक्स का बहुत बड़ा योगदान रहा (Matrix NEET Sikar) है। अब मैट्रिक्स के द्वारा दो तरह के कोचिंग इंस्टीट्यूट चलाये जाते हैं जिसमें एक में तो तो IIT JEE की तैयारी करवायी जाती है तो दूसरे में NEET की। अब आज के इस लेख में हम आपके साथ NEET की तैयारी करवाने वाले मैट्रिक्स सेंटर की बात करने जा रहे हैं।

मैट्रिक्स के द्वारा NEET के लिए जो इंस्टीट्यूट या सेंटर खोला गया है उसे Matrix NEET Division का नाम दिया गया है किन्तु बहुत लोग इसे मैट्रिक्स नीट सीकर के नाम से भी जानते (NEET Coaching In Sikar) हैं। अब जिस प्रकार से कोटा का एलन NEET की तैयारी करवाने के लिए एक अलग पहचान रखता है, ठीक उसी तरह Matrix NEET Division की सीकर में एक अलग पहचान है। यदि हम ऐसे भी कह दें कि सीकर का बेस्ट NEET इंस्टीट्यूट Matrix NEET Division है तो कोई गलत बात नहीं होगी।

तो यदि आप मेडिकल के स्टूडेंट हैं या उसमे अपना भविष्य बनाना चाहते हैं और बारहवीं के बाद NEET का एग्जाम क्रैक कर देश के शीर्ष मेडिकल कॉलेज में एडमिशन लेना चाहते (Best Coaching In Sikar For NEET) हैं तो आपके लिए Matrix NEET Sikar से बेस्ट चॉइस कोई हो ही नहीं सकती है। अब Matrix NEET Division ही सीकर का बेस्ट नीट कोचिंग इंस्टीट्यूट क्यों है और इसमें ऐसा क्या ख़ास है, वह सब आपको इस लेख में जानने को मिलेगा।

मैट्रिक्स नीट डिवीज़न के बारे में जानकारी

इस देश में डॉक्टर को भगवान का रूप माना जाता है जो हमारे जीवन को बचाने का काम करता है। कोरोनाकाल में तो डॉक्टरों के द्वारा जो साहसिक व युद्धस्तर पर कार्य किया गया, वह किसी से छुपा हुआ नहीं (Matrix NEET Division Sikar) है। किन्तु डॉक्टर बनने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती (Sikar NEET Coaching) है और यह मेहनत शुरू हो जाती है मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेने की खातिर नीट का एग्जाम क्रैक करने से।

Matrix Coaching Center

Matrix Coaching Center

अब कुछ बच्चे तो इसके लिए बहुत पहले से ही सतर्क हो जाते हैं तो कुछ अपनी 11 वीं या बारहवीं कक्षा में इसे लेकर गंभीर होते हैं। अब नीट का एग्जाम क्रैक करना इतना सरल नहीं होता है और बहुत से बच्चों को तो बारहवीं के बाद भी एक से तीन वर्ष का ड्राप लेना पड़ता है ताकि उनका सिलेक्शन देश के बढ़िया से बढ़िया मेडिकल कॉलेज में हो सके।

अब यहाँ हम सीकर के जिस Matrix NEET Division की बात कर रहे हैं और जिसे हम सीकर का बेस्ट नीट कोचिंग सेंटर भी बता रहे हैं तो उसके पीछे कई कारण (Sikar Coaching NEET) हैं। हालाँकि इन्हें जानने से पहले आप मैट्रिक्स नीट सीकर के बारे में बेसिक जानकारी ले लेंगे तो बेहतर रहेगा।

Matrix NEET Division का पता: पिपराली मार्ग, सीकर, राजस्थान (332001)

हेल्पलाइन नंबर: +91 1572 243911 (Matrix NEET Sikar Contact Number)

ईमेल आईडी: info@matrixedu.in 

वेबसाइट लिंक: https://www.matrixedu.in/ 

Matrix NEET Division में नीट कोर्सेज की लिस्ट

अब यदि आपको मैट्रिक्स नीट सीकर के तहत नीट के कोर्स को करना है तो उसके लिए तीन तरह के बैच होते हैं जिन्हें बच्चों की कक्षा के आधार पर बांटा गया है। यह क्लास 10 से क्लास 11 में शिफ्ट हो रहे बच्चों से लेकर क्लास 12 पास कर चुके बच्चों के लिए होते (Matrix NEET Sikar Courses Program List) हैं।

हालाँकि यदि आप क्लास 10 में हैं या उससे पहले ही Matrix NEET Division के तहत NEET की कोचिंग लेने को इच्छुक हैं तो उसके लिए Matrix NEET Division के द्वारा स्पेशल बैच जिसे प्री फाउंडेशन बैच का नाम दिया गया है, उसमे पढ़ सकते हैं। अब यदि आप मैट्रिक्स संस्थान के मैट्रिक्स हाई स्कूल या मैट्रिक्स वर्ल्ड स्कूल में पढ़ रहे हैं तो फिर आप उनके स्कूल के तहत ही प्री फाउंडेशन कोर्स में हिस्सा ले सकते हैं। वहीं यदि आप किसी अन्य स्कूल में पढ़ रहे हैं तो आप Matrix NEET Division के प्री फाउंडेशन कोर्स के जरिये NEET की तैयारी कर सकते हैं।

  • मोमेंटम (Momentum)

जो छात्र अपनी दसवीं कक्षा को पास कर चुके हैं और 11 वीं में शिफ्ट हो रहे हैं तो वे Matrix NEET Division के मोमेंटम प्रोग्राम के लिए आवेदन कर सकते हैं। यह 2 वर्ष का कोर्स होता है जिसमे छात्रों को NEET की पूरी तैयारी करवायी जाती है।

  • इम्पल्स (Impulse)

अब जो छात्र अपनी 11 वीं कक्षा को पास कर चुके हैं और अब वे NEET की तैयारी शुरू करने को इच्छुक हैं तो वे Matrix NEET Sikar के तहत इम्पल्स प्रोग्राम में आवेदन कर सकते हैं जो कि एक वर्ष का कोर्स होगा।

  • एजाइल (Agile)

अब यदि आपका पहली बारी में NEET में चयन नहीं हुआ या आप ड्राप कर फिर से तैयारी या नए सिरे से तैयारी शुरू करने को इच्छुक हैं तो उसके लिए आपको Matrix NEET Division के एजाइल प्रोग्राम में हिस्सा लेना होगा जो एक वर्ष का कोर्स होगा।

इस तरह से आप Matrix NEET Division के तहत इन तीनो में से किसी एक को चुन सकते हैं और अपनी NEET की तैयारी को आज से ही शुरू कर सकते हैं।

Matrix NEET Division का फीस स्ट्रक्चर

बहुत से लोगों को यह भी जानना होता है कि यदि वे NEET की कोचिंग के लिए मैट्रिक्स नीट सीकर में एडमिशन लेने जा रहे हैं तो उन्हें फीस के तौर पर कितने रुपयों का भुगतान करना (Matrix NEET Division Fees) होगा। तो यहाँ हम एक बात पहले ही क्लियर कर दें कि यदि आप सीकर के बाहर किसी अन्य मेट्रो सिटी या कोटा में NEET की कोचिंग लेते हैं तो वहां आपको बहुत ज्यादा खर्चा करना पड़ता है।

वहीं यदि आप Matrix NEET Division में NEET की कोचिंग लेने जा रहे हैं तो यहाँ की फीस सीकर के अन्य टॉप कोचिंग संस्थानों की तुलना में कम होगी। यहाँ आपको उतनी या कम फीस में ही वर्ल्ड क्लास लेवल की सुविधाएँ मिलेंगी जो आपको किसी और इंस्टीट्यूट में शायद ही मिल पाए। यदि आपको इनकी फीस स्ट्रक्चर के बारे में ज्यादा डिटेल में जानकारी चाहिए तो आप Matrix NEET Division के कोर्स वाले सेक्शन में जाकर पता कर सकते हैं।

Matrix NEET Division का स्कॉलरशिप प्रोग्राम

जो छात्र होशियार हैं उनके लिए मैट्रिक्स नीट सीकर में NEET की कोचिंग के लिए एडमिशन लेने पर अलग से स्कॉलरशिप प्रोग्राम की व्यवस्था भी की गयी है जहाँ आप 90 प्रतिशत तक की स्कॉलरशिप प्राप्त कर सकते हैं। हालाँकि इसके लिए आपको Matrix NEET Division का M-SAT टेस्ट देना होगा जिसकी फुल फॉर्म Matrix Scholarship and Admission Test है। इसमें मिले नंबरों के आधार पर आपको स्कॉलरशिप दी जाएगी।

Matrix NEET Division की फैकल्टी

अब यदि हम Matrix NEET Division में NEET की कोचिंग दे रही फैकल्टी की बात करें तो वह देश के शीर्ष कॉलेज से पढ़ी हुई (Matrix NEET Division Faculty) है। इतना ही नहीं उनके द्वारा बच्चों को अलग-अलग मेथड से समझाने का कार्य किया जाता है ताकि वे जल्द से जल्द NEET का एग्जाम अच्छे प्रतिशत के साथ क्रैक कर (Matrix NEET Faculty) सकें।

इसमें कुछ फेमस टीचर के नाम कपिल ढाका सर (आईआईटी खड्गपुर), अनुपम अग्रवाल सर (आईआईटी कानपुर), अनिल गोरा सर (आईआईटी खड्गपुर), नरेन्द्र कोक सर (आईआईटी खड्गपुर) व राजेंद्र बुरड़क सर (SIST यूनिवर्सिटी) है। यहाँ पर आपको 100 से भी अधिक टीचर अलग-अलग विषयों में पारंगत व अच्छा खासा अनुभव लिए हुए मिलेंगे।

सीकर का बेस्ट नीट कोचिंग इंस्टीट्यूट

मैट्रिक्स नीट सीकर को यूँ ही सीकर का बेस्ट NEET इंस्टीट्यूट नहीं कहा जाता है बल्कि यहाँ पर बच्चों को जिस तरह से ट्रीट किया जाता है और उनके लिए जिस-जिस तरह की सुविधाएँ उपलब्ध (Best Coaching In Sikar For NEET) है, वह सब मिलकर ही इसे सीकर का टॉप NEET इंस्टीट्यूट बनाती है। ऐसे में यहाँ की ऐसी क्या खासियत है जो इसे सीकर शहर का सबसे बेस्ट नीट कोचिंग सेंटर बनाती हैं!! आइये एक-एक करके उनमें से कुछ प्रमुख विशेषताओं को जान लेते हैं।

  • अलग-अलग बैच की व्यवस्था

यहाँ पर अलग-अलग क्लास में पढ़ रहे बच्चों के लिए अलग-अलग बैच की व्यवस्था की गयी है जैसे कि 11वीं व 12वीं के लिए अलग-अलग बैच तो वहीं ड्रॉपर के लिए अलग बैच। बहुत इंस्टिट्यूट में यह देखने में आता है कि वे ड्रॉपर को भी 11वीं या 12वीं क्लास के बच्चों के साथ ही बिठा देते हैं लेकिन यहाँ ऐसा नहीं है। यदि बच्चे को उसकी क्लास या सिचुएशन के अनुसार पढ़ाया जाये तो उसके सिलेक्शन की संभावना बढ़ जाती है।

  • छात्रों के लिए हर दिन है खुला

ज्यादातर इंस्टीट्यूट बच्चों को कुछ दिन पढ़ाते हैं और फिर एक दो दिन की छुट्टी दे देते हैं जबकि Matrix NEET Division में आपको हर दिन कुछ ना कुछ नया सीखने को मिलता है। एक तरह से यह इंस्टीट्यूट अपने बच्चों के लिए हमेशा खुला रहता है। एक तरह से यह वर्ष के 365 दिन खुला रहता है फिर चाहे कोई त्यौहार आये है कुछ और। मैट्रिक्स में पढ़ रहे छात्र किसी भी दिन इंस्टिट्यूट जा सकते हैं और पढ़ाई कर सकते हैं।

  • बेहतर हॉस्टल फैसिलिटी

जो बच्चे दूसरे शहर या राज्य से Matrix NEET Division में NEET की कोचिंग लेने आ रहे हैं, उनके लिए सीकर शहर में ही प्रॉपर हॉस्टल की सुविधा है जहाँ उन्हें हर तरह की फैसिलिटी मिलती है। अब सीकर के कुछ इंस्टिट्यूट में हॉस्टल नहीं है तो कही पर हॉस्टल का माहौल अच्छा नहीं है किन्तु मैट्रिक्स में इसको लेकर सख्त नियम है। इसी के साथ ही हॉस्टल के अंदर पढ़ने का अनुकूल माहौल है जो इसे सबसे अलग बनाता है।

  • स्टूडेंट टीचर रेश्यो

यहाँ पर स्टूडेंट टीचर रेश्यो का भी ध्यान रखा गया है ताकि एक टीचर के ऊपर ज्यादा बच्चों को हैंडल करने का बोझ ना पड़े और बच्चे भी बेफिक्र होकर टीचर से अपने डाउट पूछ सके। अब यदि क्लास में भर-भर कर बच्चे लिए हुए हैं तो बच्चा सभी के सामने डाउट पूछने में हिचकिचाता है और टीचर के पास भी इतना टाइम नहीं होता है कि वह सभी बच्चों के डाउट सोल्व करता फिरे। ऐसे में यहाँ स्टूडेंट टीचर रेश्यो का पूरा ध्यान रखा गया है।

  • डाउट सेंटर

यदि बच्चे का कोई एक्स्ट्रा डाउट है या उसे किसी प्रश्न में दिक्कत आ रही है तो वह Matrix NEET Division के द्वारा बनाये गए डाउट सेंटर में जाकर संबंधित फैकल्टी से डिस्कस कर सकता है। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि कोई बच्चा क्लास में डाउट नहीं पूछता है या हिचकिचाता है तो वह अलग से डाउट सेंटर में जाकर इसे क्लियर कर सकता है।

  • काउंसलिंग व मेंटरिंग

यहाँ पर समय-समय पर एक्सपर्ट्स के द्वारा बच्चों की काउंसलिंग व मेंटरिंग की जाती है ताकि बच्चा हर चीज़ में आगे रहे और मन लगाकर पढ़ सके। यह एक बहुत ही बढ़िया चीज़ है जो हमें मैट्रिक्स नीट डिवीजन में ही देखने को मिली। यदि बच्चे को सही समय पर सही मार्गदर्शन मिल जाए तो वह क्या कुछ नहीं कर सकता है।

  • अटेंडेंस का रिकॉर्ड

बच्चों की हर दिन अटेंडेंस ली जाती है और उसका पूरा रिकॉर्ड उनके माता-पिता के साथ शेयर किया जाता है ताकि वे भी अपडेटेड रहें। बहुत बार यह देखने में आता है कि बच्चा दूसरे शहर में जाकर गलत संगत में पड़ जाता है और अपने मूल लक्ष्य से भटक जाता है। ऐसे में यह निर्णय उन्हें काबू में रखने का कार्य करता है।

  • लेक्चर की हाई क्वालिटी वीडियो

यदि कोई बच्चा किसी कारणवश कोई क्लास मिस कर देता है तो इसके लिए उस क्लास में दिए गए लेक्चर की हाई क्वालिटी वीडियो उपलब्ध होती है ताकि वह बाकियों से पीछे ना रहे। ऐसे में वह अगले दिन उसी तैयारी के साथ आ पाता है।

  • स्मार्ट क्लासरूम

यहाँ के क्लासरूम को भी स्मार्ट बनाया गया है जहाँ पर डिजिटल बोर्ड से लेकर वाइट बोर्ड इत्यादि सभी की व्यवस्था है। यह आज के समय में बहुत जरुरी भी है और तकनीक के माध्यम से बहुत सी चीज़े प्रभावी ढंग से बच्चों को समझायी जा सकती है।

निष्कर्ष

इस तरह से आज के इस लेख के माध्यम से आप Matrix NEET Sikar के बारे में लगभग हरेक जानकारी ले चुके हैं। यदि अभी भी आपको इसके बारे में और जानना है तो आप Matrix NEET Division की वेबसाइट पर भी विजिट कर सकते हैं। वहीं यदि आपको Matrix NEET Division में एडमिशन लेना है तो आप इसके लिए ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते (Best Coaching In Sikar For NEET) हैं या फिर ऊपर बताये गए एड्रेस पर जाकर पर्सनली बात कर सकते हैं।

एक बार फिर से हम आपको यह बात क्लियर कर दें कि यदि आप सीकर या उसके आसपास के किसी शहर या गाँव में रह रहे हैं तो आपके लिए सीकर का बेस्ट नीट इंस्टीट्यूट Matrix NEET Division ही होगा। यहाँ तक कि पिछले कुछ वर्षों से तो मैट्रिक्स नीट सीकर के द्वारा कोटा व अन्य मेट्रो शहरों में स्थित नीट इंस्टीट्यूट को कड़ी टक्कर दी जा रही है। इसलिए आप बिना ज्यादा सोच विचार किये आज ही Matrix NEET Division से संपर्क करें।

इन्हें भी पढ़ें: